DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रुप-सी: रॉयल चैलेंजर्स, कोबराज, वोल्ट्स

ग्रुप-सी: रॉयल चैलेंजर्स, कोबराज, वोल्ट्स

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (भारत)- पहले पांच मैच हारने के बावजूद आईपीएल-2 के उपविजेता रहे।

टीम- अनिल कुंबले (कप्तान), मार्क बाउचर, जैक्स कैलिस, राहुल द्रविड़, बालाचंद्रा अखिल, प्रवीण कुमार, डेल स्टेन, रोबिन उथप्पा, विनय कुमार, भुवनेश्वर कुमार, राजेश बिशनोई, विराट कोहली, मनीष पांडे, रोस टेलर, वान डे मर्व, जेसी राइडर
कोच- रे जेनिंग्स

मजबूती- कुंबले की कप्तानी में आईपीएल-2 का फाइनल खेलने का अनुभव। टीम में कुंबले, द्रविड़, उथप्पा, प्रवीण, कोहली, मनीष पांडे जैसे देसी और कैलिस, बाउचर, टेलर, राइडर, मर्व, स्टेन जैसे विदेशी खिलाड़ियों का अच्छा तालमेल है।

कमजोरी- लगातार हार मिलने के बाद जीत की पटरी पर लौटना मुश्किल। आईपीएल-2 में अपने पहले पांच मैच हारे और फिर कप्तानी बदलने पर टीम का प्रदर्शन भी बदला। अनुभवी से ज्यादा युवा खिलाड़ियों पर निर्भर है टीम।

...........................................................................................................................................................................................


केप कोबराज (दक्षिण-अफ्रीका)- अफ्रीका टैलेंट से सराबोर कोबराज हैं मौजूदा स्टैंडर्ड बैंक प्रो20 चैंपियन।

टीम- एंड्रयू पुटिक (कप्तान), हर्शल गिब्स, जेपी डुमिनी, रेयान कैनिंग, रोरे कलेनवेल्ड, रिचर्ड लेवी, वेरोन फिलैंडर, मोंडे जोंडकी, डेरेक ब्रैंड, हेनरी डेविड्स, सायब्रैंड, क्लोड हेंडरसन, चार्ल लैंग्वेट, जस्टिन ओनटॉन्ग, फ्रांसोस प्लाटजीस
कोच- शुक्री कोनार्ड


मजबूती- गिब्स, डुमिनी, लैंग्वेट, ओनटॉन्ग जैसे दक्षिण-अफ्रीकी खिलाड़ियों का अनुभव टीम के साथ रहेगा। गिब्स और डुमिनी का आईपीएल का अनुभव सोने पर सुहागा वाली बात होगी। इन दोनों में से गिब्स को 65 और डुमिनी को 60 टी20 मैच खेलने का अनुभव भी है। स्टैंडर्ड बैंक प्रो20 टूर्नामेंट जीतकर टीम का आत्मविश्वास भी काफी ऊंचा है।

कमजोरी- कप्तान ग्रीम स्मिथ के बाहर होने से पहले ही टीम को बड़ा झटका लग चुका है। गिब्स भी चोट से वापसी कर रहे हैं। इसके अलावा डुमिनी आउट ऑफ फॉर्म हैं जबकि लैंग्वेट और ओनटॉन्ग काफी अर्से से इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं खेल पाए हैं।

............................................................................................................................................................................................


ओटागो वोल्ट्स (न्यूजीलैंड)- कुछ बड़े नामों के बावजूद खास नहीं कर पाए हैं वोल्ट्स।

टीम- क्रेग कम्मिंग (कप्तान), नील ब्रूम, ब्रेंडन मैकुलम, दमित्रि मैसकेरनस, डेरेक डी बूरडर, जेम्स मैकमिलन, हमिश रथरफोर्ड, नील वेगनर, निक बीयर्ड, इयान बटलर, मैट हार्वे, नाथन मैकुलम, वारेन मैकस्कीमिंग, आरेन रेडमेंड, ग्रेग टोड
कोच- माइक हेसन


मजबूती- ब्रेंडन मैकुलम, मैसकेरनस, बटलर, नील ब्रूम जैसे अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों की मौजूदगी। मैकुलम और मैसकेरनस को आईपीएल में खेलने का अनुभव। अंडरडॉग न्यूजीलैंड की टीम तरह वोल्ट्स में भी कई अंडरडॉग कीवी खिलाड़ी।

कमजोरी- कुछ अच्छे खिलाड़ियो के बावजूद टीम अभी तक अपने घरेलू स्तर पर कुछ खास नहीं कर पाई है। ओटागो से टीम का नाम बदलकर ओटागो वोल्ट्स कर दिया गया, लेकिन इसके बावजूद टीम की रगों में बिजली नहीं दौड़ पाई। वोल्ट्स ने दो दशक बाद आखिरी बार 2008 में कोई बड़ी ट्रॉफी अपने नाम की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ग्रुप-सी: रॉयल चैलेंजर्स, कोबराज, वोल्ट्स