DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

काबुलः भारतीय दूतावास को निशाना बनाकर शक्तिशाली धमाका

काबुलः भारतीय दूतावास को निशाना बनाकर शक्तिशाली धमाका

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में गुरुवार सुबह 8:27बजे आत्मघाती हमलावर ने भारतीय दूतावास को निशाना बनाने के लिए उसके समीप विस्फोटकों से लदी अपनी कार को विस्फोट कर उड़ा दिया, जिससे कम से कम 12 लोग मारे गए और 83 अन्य घायल हो गए जिनमें भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के तीन जवान शामिल है।

भारतीय राजदूत जयंत प्रसाद ने बताया कि भारतीय दूतावास इस हमले का निशाना था। विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि उससे दूतावास का निगरानी टावर उड़ गया, वाहन नष्ट हो गए और सड़क पर लाशें बिछ गई। अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता जमराल बाशरी ने बताया एक आत्मघाती कार बम विस्फोट भारतीय दूतावास के समीप हुआ जिसमें 12 लोग मारे गए तथा 83 अन्य घायल हो गए। घायल हुए लोगों में अधिकतर नागरिक हैं।

भारतीय राजदूत ने कहा हमारे पास नौ लोगों के मारे जाने, चार लोगों के गंभीर रूप से घायल होने तथा 12 अन्य को गंभीर चोटें आने की पुख्ता रिपोर्ट है। मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। लेकिन आत्मघाती हमलावर दूतावास की सुरक्षा दीवार को भेदने में कामयाब नहीं हो सका। प्रसाद ने बताया हमले में दूतावास का कोई कर्मचारी या भारतीय नहीं मारा गया है।

अवरोधकों से घिरे भारतीय दूतावास परिसर की सुरक्षा में तैनात भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के तीन जवान मामूली रूप से घायल हुए हैं। विदेश सचिव निरूपमा राव ने नई दिल्ली में यह जानकारी देते हुए बताया कि हमला सुबह आठ बजकर 27 मिनट पर हुआ। हमले की हालांकि तत्काल किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन अफगान अधिकारियों ने कहा कि यह तालिबानी हमला लगता है। शहर में तालिबान ने हाल ही में कई हमले किए हैं जिनमें नाटो के काफिले पर हुआ हमला शामिल है। इस हमले में छह इतालवी सैनिक मारे गए थे तथा दस नागरिक घायल हो गए थे।

आज का विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि इससे दूतावास का निगरानी टावर ध्वस्त हो गया तथा करीब 20 मीटर दूर दूतावास परिसर में खडी़ एक कार के परखच्चे उड़ गए। दूतावास के बाहर सड़ पर विस्फोट का मलबा फैला हुआ है, क्षतिग्रस्त वाहनों से धुंआ उठ रहा है, क्षत-विक्षत शव बिखरे पडे़ हैं और रक्त से सने कपडे़ फैले हैं। विस्फोट के कारण दूतावास के बाहर सड़क पर एक बड़ा गड्ढा भी बन गया।

भारतीय दूतावास पर यह दूसरा आत्मघाती हमला है। पिछले वर्ष एक आत्मघाती कार हमलावर ने अपनी विस्फोटक से भरी कार भारतीय दूतावास की बाहरी दीवार से टकरा दी थी जिससे 60 लोग मारे गए थे। इस हमले के लिए तालिबान उग्रवादियों को जिम्मेदार ठहराया गया था जिनका संबंध पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से है।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष के आत्मघाती हमले के बाद भारतीय दूतावास ने अपनी सुरक्षा चारदीवारी को उंचा किया था और उस पर कई निगरानी टावर बनाए थे। दूतावास इमारत का मुख्य प्रवेश द्वार अवरोधकों से घिरा रहता है और यहां प्रवेश प्रतिबंधित है। विस्फोट के बाद पूरे इलाके को सील कर दिया गया और दूतावास के कर्मचारियों की गिनती की गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:काबुलः भारतीय दूतावास को निशाना बनाकर शक्तिशाली धमाका