DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हजारों कर्मियों की इस बार फीकी रह जाएगी दीवाली

चुनावी सीजन में भी साइबर सिटी के कर्मचारियों का बढ़े हए एचआरए में कटौती कर दी गई है। कर्मचारियों को अब एचआरए बीस प्रतिशत से घटाकर दस प्रतिशत कर दिया गया है। इसे लेकर कर्मचारियों में रोष है।
छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद और गुड़गांव के नगर निगम बनाए जोन के बाद कर्मचारियों के हाउस रेंट अलाउंस(एचआरए) में बीस प्रतिशत कर दिया गया था।

कर्मचारियों को एक जनवरी, 2009  से बढ़ा हुआ एचआरए मिल रहा था। लेकिन, वित्त विभाग ने वर्ष 2001 की जनगणना का हवाला देते हुए गुड़गांव की आवादी 2,80,820 बताई गई थी और इसी आधार पर बढ़ा हुआ एचआरए को वापस लेने के निर्देश दिए थे। इसी निर्देश पर अक्टूबर माह सें शिक्षकों और अन्य विभागों के कर्मचारियों के एचआएए में कटौती कर दी गई।

प्राथमिक शिक्षक संघ के सचिव मुकेश यादव ने कहा कि गुड़गांव के कर्मचारियों के साथ अन्याय है। बीस प्रतिशत नहीं बल्कि आबादी को देखते हुए तीस प्रतिशत हाउस रेंट मिलना चाहिए। हरियाणा लेक्चरर एसोसिएशन के जिला प्रधान बाल किशन यादव ने कहा कि निगम बनाने के लिए 54 पंचायतों को शामिल किया गया और शहर की आबादी सरकार से दावे से तो कहीं अधिक है। उन्होंने कहा कि मंहगाई में एचआरए बढ़ना चाहिए लेकिन, सरकार कटौती करने पर लगी हुई है।

हरियाणा रोडवेज के सचिव सुरेश शर्मा ने कहा कि गुड़गांव में कर्मचारियों के साथ अन्याय हो रहा है। हुडा, पीडब्लूडी, शिक्षा और अन्य विभागों के कर्मचारियों में एचआरए की कटौती से लोगों में आक्रोश है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हजारों कर्मियों की इस बार फीकी रह जाएगी दीवाली