DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सी.टी. स्कैन-2

शरीर के किसी अंग का विस्तृत ब्यौरा पाने के लिए इसे कराया जाता है। इसके लिए खाली पेट जाना जरूरी है। पहले कभी किसी दवा से एलर्जी हुई हो, या दमा, ददोरे या कोई दूसरा एजर्ली-प्रेरित रोग हो तो इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को अवश्य दे दें। नस में दी जानेवाली कांट्रास्ट दवा के साथ कभी-कभार गंभीर एलर्जी-प्रेरित रिएक्शन हो सकते हैं। अगर किसी को एलर्जी होने की पहले कभी कोई घटना हुई है, तो यह जोखिम बढ़ जाता है।

जांच के लिए रिकार्ड साथ ले जाएं
रोग की जड़ तक पहुंचने के लिए सी़ टी़ स्कैन पढ़ने वाले विशेषज्ञ डॉक्टर को रोगी से संबंधित सभी जानकारियों कामन ही मन विश्लेषण करना पड़ता है, तभी सी़टी़ तस्वीरों में दिखने वाली असामान्यताओं पर वह कोई प्रकाश डाल सकता है। अत: जांच के लिए जाते समय अपने तमाम रिकार्ड अपने साथ ले जाना कभी न भूलें।

जांच के दिन किसी वयस्क को अवश्य अपने साथ ले जाएं
यह सावधानी इसलिए जरूरी है कि जांच के समय दी जानवाली कांट्रास्ट दवा के साथ कभी-कभार एलर्जी-प्रेरित रिएक्शन हो जाते हैं। उस सूरत में अपना कोई साथ होना निश्चित रूप से जरूरी है।

गर्भावस्था में सी़ टी़ स्कैन ठीक नहीं
गर्भवती स्त्री के लिए किसी भी प्रकार का एक्स-रे या सी़ टी़ स्कैन कराना वाजिब नहीं। यह पाबंदी पहली तिमाही पर खास तौर से लागू होती है। इस वक्त सीटी स्कैन कराने से रेडिएशन के कोशिकीय स्तर पर हुए दुष्परिवर्तन से बच्चे में जन्मजात विकृतियाँ आ सकती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सी.टी. स्कैन-2