DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंखों संग लापरवाही..ठीक नहीं

आंखों संग लापरवाही..ठीक नहीं

बच्चो, आंखें हमारे शरीर का बेहद कोमल अंग होती हैं, इसलिए इनकी देखभाल भी बड़ी सावधानी के साथ की जानी चाहिए। लेकिन तुम बच्चे आंखों को लेकर काफी लापरवाह होते हो, इसीलिए कई बार गलत जानकारी होने के कारण आंखों में परेशानी भी हो जाती है। आज हम तुम्हें आंखों से जुड़ी हुई गलत धारणाओं के बारे में जानकारी दे रहे हैं, ताकि तुम जान सको कि जिन चीजों को आज तक तुम सही समझते आये हो, दरअसल वे आंखों के लिए कितनी गलत हैं। 

नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. राजीव सूदन बताते हैं कि आंखों के प्रति लापरवाही बहुत खतरनाक साबित हो सकती है। बस, ट्रेन आदि में सफर करते हुए आंखों की कई बीमारियों को सुरमों से ठीक करने और मामूली सी रकम लेकर आंखों की रोशनी बढ़ाने का दावा करने वालों से हमेशा सावधान रहना चाहिए। इनसे रोशनी बढ़ने की बजाय आंखों की रोशनी जाने की संभावना अधिक रहती है। लोग सामान्यत: आंखों में ठंडक लाने के लिए कई तरह की चीजों का इस्तेमाल करते हैं। इनमें आमतौर पर गुलाब जल, घी, सुरमा, काजल तथा शहद का इस्तेमाल लाभदायक बताया जाता है, लेकिन वास्तव में इन चीजों के शुद्ध एवं बैक्टीरियारहित होने की कोई गारंटी नहीं होती। इसके अलावा बच्चो तुम सुबह उठते ही खुली आंखों में पानी के छींटे मारते होगे, जबकि सुबह-सुबह आंख बंद करके धोनी चाहिए, क्योंकि आंखें खोल कर धोने से आंखों में मौजूद साल्ट्स तथा एंजाइम्स, जो कि आंखों को रोगों से बचाने में सहायक होते हैं, निकल जाते हैं।

डॉ. सूदन के मुताबिक, आंखों की एक्सरसाइज करने के लिए एक पेंसिल को एक हाथ की दूरी पर माथे के समानान्तर पकड़ कर इसे धीरे-धीरे पास लाओ। जब पेंसिल एक से दो दिखने लगे तो थोड़ी देर उसे उसी स्थिति में पकड़ो। फिर जब एक दिखने लगे तो इसे हटा लो। इस प्रक्रिया को कई बार दोहराओ। इससे आंखों को आराम मिलता है। थकी आंखों पर बर्फ या खीरा रखने से भी आंखों को आराम मिलता है। इसे कूल फरमंटेशन कहते हैं। हथेली को रगड़ कर बार-बार आंखों पर लगाने से भी आंखों को आराम मिलता है। इसके अलावा आंखों की भाप या गर्म कपड़े से सिकाई करना भी लाभदायक रहता है। कहते हैं कि नाखून चबाने से आंखें कमजोर हो जाती हैं, लेकिन यह केवल एक गलत धारणा के अलावा और कुछ नहीं है। हां, यह एक गलत आदत अवश्य है। सुबह-सुबह हरियाली को देखना, ओस वाली घास पर नंगे पैर चलना और हरी सब्जियां खाना आंखों के लिए अच्छा होता है।

(अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान  के पूर्व सीनियर रेजिडेंट एवं नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. राजीव सूदन से बातचीत पर आधारित)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आंखों संग लापरवाही..ठीक नहीं