DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चलने लगा आचार संहिता का डंडा

आयोग ने सरकारी वेबसाइटों पर मंत्रियों का प्रचार रोका चुनाव आयोग लखनऊ और फरुखाबाद में हुए लोधी सम्मेलनों पर दोनों जिलाधिकारियों से रिपोर्ट माँगी है। लखनऊ से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार संजय दत्त की ओर से परीक्षा के दौरान एक डिग्री कॉलेज में वोट माँगने के आरोप पर भी डीएम से रिपोर्ट माँगी है। आयोग आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों के मद्देनजर रिपोर्ट मँगवा रहा है। इस बीच, आयोग ने सरकारी वेबसाइटों पर मंत्रियों की ओर से चुनाव प्रचार किए जाने पर रोक लगा दी है। आयोग ने कहा है कि यदि वेबसाइट में मंत्री का फोटो होगा, तो उसे भी हटा दिया जाएगा।ड्ढr प्रदेश के अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी अमृत अभिजात ने मंगलवार को कहा कि लोधी सम्मेलनों व संजय दत्त के कार्यक्रम को लेकर आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें की गई हैं। इस सम्बंध में प्रकाशित समाचारों व इलेक्ट्रानिक मीडिया की रिपोर्ट का भी संज्ञान लिया गया है। जिलाधिकारियों की रिपोर्ट मिलने के बाद ही इस सम्बंध में किसी कार्रवाई के बारे में आयोग सोचेगा। इलाहाबाद में कैबिनेट मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता ‘नन्दी’ तथा बसपा प्रत्याशी अशोक बाजपेयी के प्रकरण में भी जिलाधिकारी की रिपोर्ट की प्रतीक्षा है।ड्ढr अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी जिलाधिकारियों को चेतावनी दी है कि वे चुनाव आचार संहिता का हर हाल में कड़ाई से पालन कराएँ। लोधी सम्मेलन के खिलाफ शिकायत भारतीय जनता पार्टी ने की है। पार्टी ने आरोप लगाया है कि इसका आयोजन सपा ने करवाया। जातीय सम्मेलन बुलाकर मतदान की अपील करना चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है। इसलिए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत सपा की मान्यता रद की जाए। पार्टी के उपाध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि निर्वाचन आयोग को भेजी गई शिकायत में कहा कि चुनाव आचार संहिता लागू होने के बावजूद जातीय सम्मेलन करना जानबूझकर आपराधिक कृत्य करने वाली घटना है। मतदान स्थल के आस-पास मोबाइल फोन नहीं चलेगा चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव के दौरान मतदान तथा मतगणना स्थल के चारों ओर 100 मीटर की परिधि में मोबाइल फोन, कार्डलेस फोन तथा वायरलेस सेट के उपयोग पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगा दिया है। मतदान व मतगणना स्थल के भीतर भी किसी भी रूप में इसका प्रयोग नहीं हो पाएगा। चुनाव आयोग द्वारा नियुक्त प्रेक्षकों, माइक्रो प्रेक्षकों, कानून-व्यवस्था से जुड़े अधिकारियों तथा अन्य अधिकारियों पर यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा। इन अधिकारियों को यह सलाह दी गई है कि वे अपना मोबाइल फोन ‘साइलेन्ट मोड’ पर रखेंगे।ड्ढr अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी अमृत अभिजात ने मंगलवार को कहा कि प्रदेश में पहले चरण के चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने का काम 23 मार्च को अधिसूचना जारी होने के साथ ही शुरू हो जाएगा। आयोग ने नामांकन से सम्बंधित सारी तैयारियाँ पूरी कर ली हैं। उन्होंने कहा कि नामांकन पत्र दाखिल करते समय रिटर्निग आफिसर के कार्यालय की 100 मीटर की परिधि में केवल तीन वाहनों के प्रवेश की अनुमति होगी। इसके अलावा अगर कोई वाहन होगा तो उसे बाहर ही रोक दिया जाएगा। इसी तरह नामांकन पर्चा दाखिल करते समय रिटर्निग आफिसर के कमरे में प्रत्याशी सहित केवल पाँच लोगों को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। प्रत्याशियों के साथ कोई भीड़ अन्दर नहीं जा पाएगी। नामांकन पत्रों की जाँच के समय प्रत्याशी तथा अधिकृत व्यक्ित के अतिरिक्त उनके चुनाव एजेंट तथा प्रस्तावक ही रिटर्निग आफिसर के कमरे में उपस्थित रहेंगे। अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि चुनाव आयोग ने चुनाव के दौरान राजनीतिक पार्टियों तथा प्रत्याशियों द्वारा अस्थाई कार्यालयों की स्थापना के मानकों का भी निर्धारण कर दिया है। शिक्षण संस्थाओं तथा चिकित्सालयों की 200 मीटर की परिधि में किसी भी स्थान पर पार्टी कार्यालय स्थापित नहीं होंगे। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों, धर्मस्थलों तथा धर्मस्थल प्रांगणों में भी पार्टी कार्यालय स्थापित नहीं होंगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चलने लगा आचार संहिता का डंडा