DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झामुमो-कांग्रेस गठबंधन टूटने के कगार पर

पांच साल पहले झारखंड में एक सफल गठबंधन बनाने वाले कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुओ) आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने जा रहे हैं।

झामुओ प्रमुख शिबू सोरेन ने कहा कि झारखंड में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) का अस्तित्व नहीं है और उनकी पार्टी चुनाव में अकेले लड़ेगी। इसके जवाब में कांग्रेस ने कहा है कि कार्यकर्ताओं की भावनाओं को देखते हुए वह अकेले चुनाव लड़ने के लिए तैयार है।  झारखंड में इस समय राष्ट्रपति शासन है और इस साल के अंत तक राज्य में विधानसभा चुनाव होने की आशा है।

झारखंड कांग्रेस के प्रवक्ता रबिंद्र सिंह ने बताया, ‘‘हमारी पार्टी के जमीनी कार्यकर्ता अकेले चुनाव लड़ना चाहते हैं। अकेले चुनाव लड़ने के लिए हम अपने आधार और संगठन को मजबूत कर रहे हैं।’’

राज्य में संप्रग का अस्तित्व नहीं होने के सोरेन के बयान में बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा कि सोरेन अपनी पार्टी के बारे में फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की भावना चुनाव अकेले लड़ने की है। इस संबंध में अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व करेगा।

झामुमो के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा, ‘‘राज्य की 81 विधानसभा सीटों में से 55 के लिए उम्मीदवारों का चयन हो चुका है। अंतिम निर्णय गुरुजी (सोरेन) करेंगे।’’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झामुमो-कांग्रेस गठबंधन टूटने के कगार पर