DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिलेरी मेंटल ने जीता मान बुकर पुरस्कार

हिलेरी मेंटल ने जीता मान बुकर पुरस्कार

ब्रिटेन की उपन्यासकार हिलेरी मेंटल को उनकी पुस्तक 'वोल्फ हॉल' के लिए मान बुकर पुरस्कार दिया गया है। पिछले कुछ सालों में यह पहली बार है, जब पुरस्कार के लिए बनाई गई सूची में किसी भारतीय लेखक को शामिल नहीं किया गया था। अंग्रेजी साहित्य के इस सर्वाधिक प्रतिष्ठित पुरस्कार के तहत 50,000 पाउंड की राशि दी जाती है।

पुरस्कार के लिए तैयार की गई सूची में एएस बॉयट, जेएम कोटजी, एडम फोल्ड्स, सिमोन मेवर और सारा वाटर्स का भी नाम था। 'वोल्फ हॉल' 1520 की पृष्ठभूमि पर लिखा गया उपन्यास है, जो थॉमस क्रोमवैल के ट्यूडर अदालत में उद्भव की कहानी कहता है।

हिलेरी के उपन्यास को आलोचकों ने भी एक समृद्ध, पठनीय और ऐतिहासिक उपन्यास कहा था। हिलेरी को यह उपन्यास लिखने में पांच साल का वक्त लगा और फिलहाल वह इसका सीक्वल लिख रही हैं।
  
पुरस्कार की घोषणा मुख्य चयनकर्ता जेम्स नॉटी ने की, जिसे बीबीसी पर प्रसारित किया गया। मैन ग्रुप पब्लिकेशन के मुख्य कार्यकारी पीटर क्लार्क ने हिलेरी को 50,000 पाउंड का चेक भेंट किया। पुरस्कार के अलावा हिलेरी को इसके बाद अंतरराष्ट्रीय पहचान और पुस्तक की बिक्री में जबरदस्त उछाल का उपहार मिलने वाला है। विजेता समेत सूची में शामिल अन्य लेखकों को भी 2,500 पाउंड की राशि और अपनी किताब का एक डिजाइनर संस्करण उपहार के तौर पर मिला।

इस साल सूची में शामिल लेखकों को लंदन के ग्राउचो क्लब की एक साल की सदस्यता भी मिलेगी। 2009 के मैन बुकर पुरस्कार (फिक्शन) के लिए चयनकर्ताओं के पैनल में प्रसारक और लेखक जेम्स नॉटी, जीवनीकार और आलोचक लुकास्टा मिलर, संडे टेलीग्राफ के साहित्य संपादक माइकल प्रोजर, शिक्षाविद और लेखक प्रो. जॉन मुलन तथा कॉमेडियन और प्रसारक सू परकिंस शामिल थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिलेरी मेंटल ने जीता मान बुकर पुरस्कार