DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारिश से देवा मेला अस्त-व्यस्त

लगातार हुई बारिश से देवा मेला अस्त-व्यस्त हो गया है। पूरे मेला क्षेत्र में पानी ही पानी नजर आ रहा है। जलभराव के कारण कई दुकानदार व पशु व्यवसाई मेला छोड़ कर जा चुके हैं। ऐसे में जिला प्रशासन मेले को आगे संचालित करने के लिए अगली रणनीति तय करने के बारे में विचार कर रहा है।

देवा मेला क्षेत्र में वीआईपी पंडाल, पशुबाजार, हसनरसूल गेट पर तो पानी भरा हुआ है। जल भराव के कारण देवा मेला कमेटी का दफ्तर बंद पड़ा हुआ है। चाय, पान, हलवा-पराठा खाने के होटल वाले व पशु व्यवसाई सभी परेशान हैं। क्योंकि पानी के कारण खाने-पीने का सामान बरबाद हो गया है। यहाँ तक की लागत निकलनी तो दूर की बात दुकानदार घाटे को लेकर काफी परेशान हैं।

जादू, सर्कस के शो नहीं हो पा रहे हैं। क्योंकि सब जगह जलभराव हो गया है। यही हाल चूड़ी और सुरमा वाली गली का है। दुकानदार सामान बचाए या पानी से अपने आपको भीगने से बचाए। क्योंकि मेला क्षेत्र में कोई ऐसा स्थान नहीं है कि दुकानदार वहाँ पर लेटे और बैठ सके। जलभराव के कारण गलियों में कीचड़ भरा हुआ है। जिससे संक्रामक रोग भी फैल सकता है।

जलभराव का मुख्य कारण पानी की निकासी की व्यवस्था बंद होना है।  पानी निकासी के अधिकांश स्थानों पर लोगों ने पहले से अवैध कब्जे कर रखे हैं। वैसे प्रशासन पानी निकासी की व्यवस्था में जुटा हुआ है। जिलाधिकारी व देवा मेला कमेटी के अध्यक्ष विकास गोठलवाल ने स्वीकार किया है देवा मेला परिसर में जलभराव की समस्या काफी विकट हो गई है। ऐसे में प्रशासन मेला को लेकर अगली रणनीति पर विचार कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बारिश से देवा मेला अस्त-व्यस्त