DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रानीखेत एक्स. से बदमाशों ने हजारों का माल उड़ाया

रानीखेत एक्सप्रेसम में सोमवार की रात बदमाशों ने ट्रेन से हजारों का माल उड़ा दिया। बदमाशों ने जहां एक बार फिर विदेशी सैलानी को निशाना बनाया। वहीं कुमाऊं विश्वविद्यालय के रिटायर्ड प्रोफेसर और इंजीनियर का भी हजारों का माल पार कर लिया। एक ही दिन ट्रेन में हुई तीन वारदातों से हड़कंप मच गया। घटना की रिपोर्ट काठगोदाम जीआरपी में दर्ज कर ली गयी है।

रानीखेत एक्सप्रेस में अपराधों का सिलसिला थमता नहीं दिख रहा। 3 अक्टूबर को रानीखेत एक्सप्रेस में कुछ उचक्कों ने दक्षिण अफ्रीका की युवती एलिजाबेथ और उसके पति का दिल्ली स्टेशन में नगदी और कीमती सामान से भरा बैग पार कर लिया था। यह मामला अभी ठंडा भी नहीं हो सका था, कि लुटेरों ने एक बार फिर दिल्ली से काठगोदाम आ रही रानीखेत एक्सप्रेस (5013) में धावा बोल दिया।

पहली घटना 1 एसी में सफर कर रहे लंदन के निकोलस टेबल के साथ घटी। दिल्ली स्टेशन से ट्रेन चलते ही एक बदमाशों उनका बैग उड़ा ले गया। बैग में लैपटाप, कैमरा, दूरबीन, डीवीडी, किताबें और कुछ डालर रखे थे। निकोलस फिलोसापी विषय में रिसर्च कर रहे हैं, जिसके लिए वह कौसानी जा रहे थे। इसी दिन दूसरी घटना 2 एसी के एस कूपे में घटी।

कूपे में सफर कर रहे दिल्ली निवासी इंजीनियर सुमेंद्र सिंह और अल्मोड़ा दुआलखोला निवासी महेश चंद्र दुर्गापाल और उनकी पत्नी कमला के साथ घटी। महेश कुमाऊं विश्वविद्यालय में भौतिक विज्ञान के रिटायर्ड प्रोफेसर रह चुके हैं। सुमेंद्र और महेश ने बताया कि सफर के दौरान ऊपर की बर्थ में जय अरोड़ा नाम का युवक सफर कर रहा था।

ट्रेन के रुद्रपुर स्टेशन पहुंचने पर जब उनकी नींद खुली तो उन्होंने जय को उनका सामान लेकर भागते देखा, लेकिन जब तक वह कुछ समझते ट्रेन चल पड़ी। दोनों घटनाओं की रिपोर्ट जीआरपी काठगोदाम में लिखा दी गयी है। प्रभारी थानाध्यक्ष जीबी जोशी के अनुसार घटनाएं रुद्रपुर और दिल्ली स्टेशन का है, इसलिए जांच वहीं भेज दी गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रानीखेत एक्स. से बदमाशों ने हजारों का माल उड़ाया