DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनडीएमसी मृतक के परिवार को मुआवजा दे: अदालत

9 साल पहले नई दिल्ली पालिका परिषद(एनडीएमसी) के वाहन ने महकमे के ही एक ड्राइवर को कुचल दिया। ड्राइवर की मौके पर ही मौत हो गई। अदालत ने इस मामले में एनडीएमसी को निर्देश दिए हैं कि मृतक के परिवार को 19 लाख 93 हजार रुपये बतौर मुआवजा अदा करे। पटियाला हाउस स्थित एमएसीटी जज रीना सिंह नाग की अदालत ने हादसे के लिए एनडीएमसी और दुर्घटना में प्रयुक्त वाहन के ड्राइवर को संयुक्त रुप से जिम्मेदार ठहराया है। अदालती आदेशानुसार मृतक की विधवा और उसके तीन नाबालिग बच्चों को एनडीएमसी मुआवजा रशि का भुगतान करेगी।


अदालत में दाखिल मुआवजा दावे के मुताबिक अशोक कुमार(28) एनडीएमसी में ड्राइवर के पद पर कार्यरत था। 29 मई 2000 को वह उस समय विभाग के दूसरे ट्रक के पहिए के नीचे आ गया था। जब वह दिल्ली हॉट के करीब ट्रक से दूर बैठा था। उसके ट्रक में कूड़ा भरा जा रहा था। तभी उसके साथी रामचन्द्र द्वारा लापरवाही से वाहन चलाने के कारण हादसा हो गया। इस मामले में अदालत ने रामचन्द्र को लापरवाही से वाहन चलाने के लिए दोषी ठहराया है। वहीं अदालत ने एनडीएमसी को मुअवजा भुगतान के आदेश दिए। हालांकि एनडीएमसी का कहना था कि विभाग ने मृतक की जगह उसकी पत्नी को नौकरी दे दी है। परन्तु अदालत ने कहा कि विभाग अपनी जिम्मेदारी से भाग नहीं सकता। साथ ही अदालत ने मुआवजा राशि पर ब्याज अदायगी के आदेश भी दिए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एनडीएमसी मृतक के परिवार को मुआवजा दे: अदालत