DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपराधियों की आपसी लड़ाई, जेल अधिकारियों की आफत

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिला जेल में अन्डरवर्ल्ड माफिया छोटा राजन, पूर्व सांसद अतीक अहमद और बहुचर्चित विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के बन्द गुर्गों के बीच चल रही वर्चस्व की लड़ाई ने जेल अधिकारियों की नींद हराम कर दी है।

इस लड़ाई की वजह से जेलकर्मी स्वयं को भी असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। प्रतापगढ़ की जेल में अन्डरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के गुर्गे पहले से बन्द हैं और काफी समय से जेल में उनका वर्चस्व चलता आ रहा था।

बाद में यहां कुण्डा के बाहुबली विधायक राजा भैया के समर्थक गुलशन यादव तथा छविनाथ यादव और बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद के साथी एखलाक अहमद भी आ गए।

जेल में छोटा राजन के शूटर खान मुबारक और उनके साथी काले सिंह, गोरे सिंह, अतुल तथा करिया हैं। पहले जेल के अन्दर खान मुबारक का वर्चस्व था, लेकिन राजा भैया और अतीक अहमद के साथी खान मुबारक का वर्चस्व समाप्त करने के लिए आए दिन आपस में भिड़ते रहते हैं।

पिछले चार अक्टूबर को राजा भैया और अतीक समर्थक कैदियों ने खान मुबारक को पकड़कर मारना शुरु किया तो घंटी बजाकर बन्दी रक्षकों को बुलाया गया। जेल के अधिकारी बन्दी रक्षकों के साथ खान मुबारक और मारपीट कर रहे कैदियों की पिटाई शुरु कर दी। इस दौरान बैरकों के अन्य कैदी भी पीटे गए, जिनका कोई कसूर नहीं था।

सूचना मिलते ही पुलिस के अधिकारी भी जेल के अन्दर पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपराधियों की आपसी लड़ाई, जेल अधिकारियों की आफत