DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाँच वर्ष पुराना आई कार्ड लेकर पहुँची शिक्षिका

बोर्ड परीक्षा में मंगलवार को संयुक्त शिक्षा निदेशक के दस्ते को राजकीय सैनिक हाईस्कूल मे सामूहिक नकल जसी स्थिति मिली। यहाँ निर्धारित संख्या से दोगुने कक्ष निरीक्षक थे। यह सभी उन्हीं स्कूलों के थे जिनका सेण्टर यहाँ आया है। संयुक्त शिक्षा निदेशक ने यहाँ से नौ कक्ष निरीक्षकों को तत्काल कार्यमुक्त किया। उधर सिन्धी ब्वायज इण्टर कॉलेज में भी उन्हीं विद्यालयों के सात शिक्षक कक्ष निरीक्षक की डय़ूटी करते मिले जिनके बच्चे यहाँ परीक्षा दे रहे थे। इन्हें भी कार्यमुक्त कर दिया गया।ड्ढr रेलवे हायर सेकेण्ड्री स्कूल में एक शिक्षिका पाँच वर्ष पुराना परिचय पत्र लेकर कक्ष निरीक्षक की डय़ूटी करने पहुँच गई। परीक्षा में सोमवार को दोनों पालियों में कुल चार नकलची पकड़े गए। राजकीय सैनिक हाईस्कूल सरोनी नगर में भारी अव्यवस्था मिली। यहाँ कुल 10 कमरों में परीक्षा चल रही थी लेकिन 23 कक्ष निरीक्षक मौजूद मिले। नियमानुसार यहाँ केवल 12 कक्ष निरीक्षक होने थे। सभी कक्ष निरीक्षक उन्हीं विद्यालयों के थे जिनके बच्चे यहाँ परीक्षा दे रहे थे। इनमें से कई शिक्षक विज्ञान व गणित के भी थे।ड्ढr संयुक्त शिक्षा निदेशक ने इसके लिए केन्द्र व्यस्थापक को फटकार लगाई तथा प्रशासनिक कार्रवाई की चेतावनी दी। उन्होंने नौ कक्ष निरीक्षकों को तत्काल कार्यमुक्त किया तथा खुद पूरे समय बैठकर परीक्षा कराई। शाम की पाली में भी उनके दस्ते ने यहाँ पूरे समय बैठकर परीक्षा कराई। जेडी को सुरभि पब्लिक इण्टर कॉलेज में भी गड़बड़ी मिली। यहाँ छात्रों के प्रश्नपत्र पर आब्जेक्िटव टाइप के प्रश्नों के उत्तरों पर पेंसिल से टिक लगा मिला। जेडी ने परीक्षा कक्ष में क्लोज सर्किट कैमरे लगे होने पर नाराजगी जताई। जेडी ने डीआईओएस को पत्र लिखकर यहाँँ के केन्द्र व्यवस्थापक के खिलाफ कार्रवाई करने तथा एक पर्यवेक्षक तैनात करने का निर्देश दिया है। सिन्धी ब्वायज इण्टर कॉलेज में सह जिला विद्यालय निरीक्षक आँग्ल भाषा राजेन्द्र सिंह को सर्वागीण विकास पब्लिक इण्टर कॉलेज के चार शिक्षक उन्हीं कमरों में कक्ष निरीक्षक की डय़ूटी कर रहे थे जिनमें उनके विद्यालयों के बच्चे परीक्षा दे रहे थे। इसी तरह अवध कालिजिएट के भी तीन पुरुष कक्ष निरीक्षकों को केन्द्र व्यवस्थापक ने कक्ष निरीक्षक बना रखा था। नियमत: इस विद्यालय का कोई भी शिक्षक व शिक्षिका यहाँ कक्ष निरीक्षक नहीं बन सकता। सह जिला विद्यालय निरीक्षक श्री सिंह ने सातों कक्ष निरीक्षकों को कार्यमुक्त कर दिया तथा नगर शिक्षा अधिकारी को यहाँ प्राइमरी स्कूलों के शिक्षक को कक्ष निरीक्षक के पद पर तैनात करने का निर्देश दिया। रेलवे हायर सेकेण्ड्री स्कूल में स्वामी विवेकानन्द इण्टर कॉलेज की शिक्षिका जीवन्ती पाँच वर्ष पुराना कक्ष निरीक्षक का पास लेकर डय़ूटी करने पहुँंची। केन्द्र व्यवस्थापक ने बताया कि परिचय पत्र पर पता नहीं किस डीआईओएस का हस्ताक्षर था पता ही नहीं चल पा रहा था। यह लगभग पाँच से छह वर्ष पुराना था। राजकीय हुसैनाबाद इण्टर कॉलेज के प्रधानाध्यापक एस.एन.यादव ने बीकेटी इण्टर कॉलेज से दो छात्राओ को नकल करते पकड़ा। यहाँ के केन्द्र व्यवस्थापक ने भी दो छात्राओं को नकल करते पकड़ा। चारो छात्राओं को निष्कासित कर दिया गया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पाँच वर्ष पुराना आई कार्ड लेकर पहुँची शिक्षिका