DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉकपिट की छेड़छाड़ पर महिला आयोग सख्त

कॉकपिट की छेड़छाड़ पर महिला आयोग सख्त

एयर इंडिया के एक विमान में एयर होस्टेस कोमल सिंह के साथ कथित तौर पर दो पायलटों द्वारा की गई छेड़छाड़ और दुर्व्यवहार के मामले में सोमवार को राष्ट्रीय महिला आयोग ने एयरलाइन से रिपोर्ट मांगी है और पुलिस ने चालक दल के सदस्यों को पूछताछ में शामिल होने को कहा है।

एयर होस्टेस कोमल ने पहले ही एयर इंडिया के दो पायलटों पर उड़ान के दौरान हुए विवाद में छेड़छाड़ और मारपीट का आरोप लगाते हुए शहर पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई थी और सोमवार को राष्ट्रीय महिला आयोग से संपर्क कर शिकायत दर्ज कराई।

आयोग की अध्यक्ष गिरिजा व्यास ने कहा कि आयोग ने एयर इंडिया से रिपोर्ट मांगी है और कोमल की शिकायत के मामले में पड़ताल के लिए एक समिति गठित करने का फैसला किया। समिति के सदस्यों के नाम मंगलवार को तय किए जाएंगे।

कोमल ने आयोग के कार्यालय में संवाददाताओं से कहा कि मैं यहां इसलिए आई हूं क्योंकि सोचती हूं कि मुझे यहां न्याय मिलेगा। मेरे साथ जो कुछ भी हुआ, उसके लिए मैं एयर इंडिया प्रबंधन और राष्ट्रीय महिला आयोग से न्याय चाहती हूं।

एयरलाइन के सूत्रों ने कहा कि घटना विमान आईसी 884 के कॉकपिट में शनिवार को घटी और माना जाता है कि शारजाह से दिल्ली के लिए उड़ान भरने से पहले एक ब्रीफिंग सत्र के दौरान दो पक्षों के बीच कहासुनी हो गई थी, जिसके बाद विवाद शुरू हुआ। पायटलों के खिलाफ आईपीसी की धारा 323, 354 और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने मामले में जांच शुरू कर दी और पायलटों से जांच में शामिल होने को कहा है। दरअसल बीच यात्रा में घटी घटना पुलिस के अधिकार क्षेत्र में नहीं है। एयर होस्टेस ने अपनी शिकायत में दावा किया था कि वह कॉकपिट के अंदर गई थीं, जहां पायलटों ने उससे बैठने के लिए कहा। जब उन्होंने इससे इंकार कर दिया तो पायलटों ने कुछ अपशब्द कहे। कोमल के मुताबिक इसके बाद वह कॉकपिट से बाहर आ गई और एक अन्य सहयोगी के साथ वापस लौटीं तो उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया।

दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त (आपरेशन) सत्येंद्र गर्ग ने कहा कि एयर होस्टेस की मेडिकल जांच में उनके शरीर पर चोट आने की पुष्टि हुई है। इस बीच एयर इंडिया द्वारा गठित एक तीन सदस्यीय समिति ने घटना में जांच शुरू कर दी और कहा कि वह इस नतीजे पर पहुंची है कि उड़ान के दौरान किसी भी समय कॉकपिट मानवरहित नहीं था। नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल को भी एयरलाइन प्रबंधन ने एक रिपोर्ट भेजी है।

एयर इंडिया ने आईसी 884 की उड़ान योजना और संबंधित मुद्दों से जुड़े दस्तावेज नागरिक उड्डयन महानिदेशालय को भेजे, जो इस बात की जांच कर रहा है कि किसी समय विमान की सुरक्षा खतरे में तो नहीं
थी। एयरलाइन के सूत्रों ने कहा कि घटना को एयर होस्टेस और पायलटों की तरफ से अनुशासनहीनता की गतिविधि के तौर पर भी देखा जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कॉकपिट की छेड़छाड़ पर महिला आयोग सख्त