DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रति सेकेंड की दर से भुगतान कर सकेंगे दूरसंचार उपभोक्ता

प्रति सेकेंड की दर से भुगतान कर सकेंगे दूरसंचार उपभोक्ता

भारत के दूरसंचार क्षेत्र की नियामक ट्राई देश के दूरसंचार कंपनियों से जल्दी ही आवश्यक तौर पर उपभोक्ताओं को प्रति मिनट की बजाय प्रति सेकेंड की दर से भुगतान करने का विकल्प देने के लिए कह सकता है।

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकार (ट्राई) के अध्यक्ष जेएस सरमा ने अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार यूनियन (आईटीयू) के सम्मेलन के मौके पर सोमवार को कहा कि हम सभी कंपनियों से अन्य शुल्क योजना के साथ प्रति सेकेंड की दर से शुल्क पर विचार करने का अनिवार्य विकल्प देने के लिए कह सकते हैं।
   
उन्होंने कहा कि ट्राई जल्दी की इस विषय में परामर्श पत्र लेकर आएगा और उपभोक्ताओं को यह अनिवार्य विकल्प मुहैया कराने के संबंध में सलाह मांगी जाएगी। ट्राई के प्रमुख ने कहा कि मौजूदा नियम कंपनियों को अपना शुल्क खुद ही निर्धारित करने की अनुमति देते हैं।

कुछ दूरसंचार कंपनियों ने देश में प्रति सेकेंड दर से शुल्क भुगतान प्रणाली पेश की है लेकिन यह शुल्क योजना अनिवार्य नहीं है। पिछले सप्ताह सरकारी कंपनी बीएसएनएल ने कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और उड़ीसा में एक पैसा प्रति सेकेंड (स्थानीय काल के लिए) और दो पैसे प्रति सेकेंड की दर (एसटीडी के लिए) वाली शुल्क योजना पेश की है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रति सेकेंड की दर से भुगतान कर सकेंगे दूरसंचार उपभोक्ता