DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृष्णा ने धरा विकराल रूप, तीन राज्यों में 240 मरे

कृष्णा ने धरा विकराल रूप, तीन राज्यों में 240 मरे

कर्नाटक में 100 साल से भी अधिक समय के बाद आई इतनी भयानक बाढ़ ने सोमवार को कृष्णा नदी पर स्थित प्रकाशम बांध पर दस्तक दी, जिससे निचले इलाकों को खतरा पैदा हो गया है। उधर, आंध्र प्रदेश, कनार्टक और महाराष्ट्र में भारी बारिश और बाढ़ से मरने वाले लोगों की संख्या 240 पहुंच गई है।

कृष्णा नदी ने समुद्र का रूप धारण कर लिया है। इस नदी पर स्थित प्रकाशम बांध में रिकार्ड 10.61 लाख क्यूसेक बाढ़ का पानी पहुंच गया है। विजयवाड़ा में सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पिछले 106 वर्षों से अधिक समय के दौरान कष्णा नदी में आई यह सबसे भयानक बाढ़ है। वहीं पिछला रिकार्ड 1903 का है, जब यहां 10. 30 लाख क्यूसेक बाढ़ का पानी पहुंचा था।

प्रकाशम बांध पर पर जल स्तर 21.4 फुट पहुंच गया है और पानी को बंगाल की खाड़ी में छोड़ने के लिये सभी 72 फाटकों को खोल दिया गया है। कर्नाटक के उत्तरी और तटीय क्षेत्रों से 10 और शवों के बरामद होने पर राज्य में बारिश और बाढ़ से मरने वाले लोगों की संख्या 178 पहुंच गई है।

आंध्र प्रदेश में 37 और महाराष्ट्र में 25 लोगों की मत्यु दर्ज की गई है। इन तीनों राज्यों में दो लाख से अधिक मकान डूब गये है और लौटते मानसून ने फसल को जबरदस्त नुकसान पहुंचाया है। बेंगलूरु स्थित अधिकारियों ने बताया कि रविवार शाम बेल्लारी, उत्तर कन्नड़, रायचूर, धारवाड़, कोप्पल और गदांग जिलों से शव बरामद किए गए।

संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गृहमंत्री पी चिदंबरम और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रोसैय्या के साथ राज्य के बाढ़ प्रभावित कनरूल और महबूबनगर जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया।

मुंबई से प्राप्त खबर में बताया गया है कि भारी बारिश ने सोमवार को लगातार तीसरे दिन भी शहर और इससे जुड़े इलाकों को सराबोर करना जारी रखा है, लेकिन सुबह के व्यस्त समय में भी रेल और सड़क यातायात में कोई अड़चन नहीं आई।

कर्नाटक के अधिकारियों ने बताया कि रविवार शाम से बारिश में कमी आने के बाद बाढ़ की स्थिति में सुधार आया है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने केंद्र से इस तबाही को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कोष के तहत राहत के रूप में 10,000 करोड़ रुपये की मांग की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित जिलों में दो लाख मकान बनाने का फैसला किया है।

उधर, हैदराबाद से मिली खबर के अनुसार आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रोसैय्या ने केंद्र से सोमवार को राज्य की विनाशकारी बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की बात पर विचार करने और राहत कार्य के लिए अविलंब 6,000 करोड़ रुपया मुहैया कराने का आग्रह किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कृष्णा ने धरा विकराल रूप, तीन राज्यों में 240 मरे