DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा काम आया जख्मी जमात का तेवर

जख्मी जमात का बगावती तेवर आखिरकार काम आया। भाजपा आलाकमान ने बिहार के लोकसभा टिकटों पर विचार के दौरान केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक में प्रदेश कोर कमेटी के सभी नेताओं की मौजूदगी को हरी झंडी दे दी। यही नहीं अब तक की कमेटी की बैठकों में नहीं जा पाए बिहार प्रभारी कलराज मिश्र भी इसमें मौजूद रहे।केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक में सिर्फ प्रदेश अध्यक्ष, विधायक दल के नेता और संगठन प्रभारी के ही जाने का नियम है। इस लिहाज से इसमें राधामोहन सिंह, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और हृदयनाथ सिंह को ही जाना था।ड्ढr ड्ढr लेकिन प्रदेश नेतृत्व विरोधी खेमा कमेटी के दो अन्य नेताओं-पीएचईडी मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और नन्दकिशोर यादव को भी भेजने को मुद्दा बनाए हुए था और दबी जुबान में चेतावनी दे रहा था कि यदि इन दोनों को बिहार के लिए उम्मीदवारों के नाम तय करने के समय समिति की बैठक से बाहर रखा गया तो वे फिर से अपना विरोध शुरू कर देंगे। जख्मी खेमे को आशंका थी कि श्री चौबे और श्री यादव की गैरमौजूदगी का लाभ उठाकर प्रदेश नेतृत्व अपने मनपसंद नेताओं को उम्मीदवार बनाने के लिए अधिक जोर लगा सकता है। इस तरह चयन प्रक्रिया में सभी नेताओं के शामिल किए जाने को विरोधी गुट अपनी बड़ी जीत मान रहा है।ड्ढr ड्ढr बताया गया कि सुबह केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक शुरू होने पर इसमें भाग लेने प्रदेश अध्यक्ष, श्री चौबे, यादव और हृदयनाथ सिंह गए। मगर यह तय होने पर कि बिहार के मामले में विचार शाम पांच बजे के बाद होगा ये सभी लौट आए। दूसरी तरफ दिल्ली गए बिहार भाजपा के नेता अपने या फिर अपने चहेते दावेदार के पक्ष में गणित फिट करने में जुटे रहे। इसके लिए कई नेता नई दिल्ली के 11, अशोक रोड स्थित भाजपा के केन्द्रीय कार्यालय में लॉबिंग करते देखे गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपा काम आया जख्मी जमात का तेवर