DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसएससी ने धीरे से दिया जोर का झटका

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुटे हजारों अभ्यर्थियों को कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने जोर का झटका धीरे से दिया है। आयोग ने इस वर्ष के लिए प्रस्तावित दो बड़ी परीक्षाओं को रद कर दिया है। भर्ती परीक्षाओं के लिए आयोग ने विज्ञापन भी जारी नहीं किया है।

इस वर्ष के लिए शिडय़ूल एसएससी की 13 भर्ती परीक्षाओं में इन दोनों परीक्षाओं का जिक्र किया गया था और इनमें से एक के लिए परीक्षा की संभावित तिथि 15 नवंबर और दूसरे के लिए मार्च 2010 बताई भी गई थी। विज्ञापन जारी न होने से वे शिक्षित बेरोजगार निराश हैं, जो इन दोनों परीक्षाओं के जरिए केंद्रीय कार्यालयों, मंत्रलयों में नौकरी पाने के लिए तैयारी में जुटे हुए थे।

एसएससी की ओर से प्रति वर्ष दो बड़ी भर्ती परीक्षाएं संयुक्त स्नातक स्तरीय और संयुक्त मैट्रिक स्तरीय आयोजित करवाई जाती है। हाईस्कूल और स्नातक उत्तीर्ण लाखों बेरोजगार इन परीक्षाओं में भाग्य आजमाते हैं। इन दोनों परीक्षाओं में 20 से 25 हजार बेरोजगारों को नौकरी मिलती है। 17 फरवरी 2009 को आयोग ने इस वर्ष की जिन 13 भर्ती परीक्षाओं का शिडय़ूल जारी किया था, उसमें संयुक्त मैट्रिक स्तरीय प्रारंभिक परीक्षा की तिथि 15 नवंबर निर्धारित की गई थी जबकि संयुक्त स्नातक स्तरीय प्रारंभिक परीक्षा मार्च 2010 में आयोजित होने की बात कही गई थी।

अभी तक इन दोनों परीक्षाओं के लिए विज्ञापन जारी नहीं हो सका है। शिडय़ूल के मुताबिक मैट्रिक स्तरीय परीक्षा का विज्ञापन जून और स्नातक स्तरीय परीक्षा का सितंबर 2009 में जारी हो जाना चाहिए था। सूत्रों का कहना है कि अब इस वर्ष इन दोनों परीक्षाओं में से किसी का हो पाना संभव नहीं है।

2008 की संयुक्त स्नातक स्तरीय मुख्य परीक्षा इस वर्ष 21, 22, 28 फरवरी और एक मार्च को हुई थी। अभी तक इसका नतीजा नहीं घोषित हो सका है जबकि 2008 की संयुक्त मैट्रिक स्तरीय मुख्य परीक्षा का नतीजा पिछले 24 सितंबर को घोषित किया गया। इसमें 67 हजार परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। एसएससी मध्य क्षेत्र के क्षेत्रीय निदेशक एके मिश्र का कहना है कि भर्ती परीक्षाओं के बारे में निर्णय दिल्ली मुख्यालय करता है, वहाँ से अभी इन दोनों परीक्षाओं के बारे में कोई सूचना प्राप्त नहीं हो सकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसएससी ने धीरे से दिया जोर का झटका