DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माफियाओं को माफी की वजह तो बताओ?

डूब क्षेत्र के असली गुनहगार अब शायद ही कभी सजा पाएंगे! पुलिस ने दो-चार खुराफातियों के साथ कितने ही गरीब किराएदारों को जेल भेजकर अपना काम पूरा मान लिया। फसाद के सूत्रधार ताकवतर माफियाओं को जैसे माफी दी जा चुकी है। पुलिस की चुप्पी पर सवाल उठ रहे हैं, अफसर फिर भी मौन हैं। हिंडन के डूब क्षेत्र में अब भी अवैध निर्माण का सिलसिला जारी है।


भू-माफियाओं पर कार्रवाई के मामले में गाजियाबाद पुलिस की हालत हमेशा ही ऐसी रही है। सिर्फ डूब क्षेत्र ही क्यों, शहर के बाकी इलाकों में जमीनों पर अवैध कब्जे होते रहे। पीड़ित लोग इंसाफ की उम्मीद में थानों के चक्कर लगाते रहे मगर पुलिस उनके साथ खड़े होने को शायद ही कभी तैयार हुई हो।


अब डूब क्षेत्र में हुए फसाद को लेकर तगड़ी किरकरी होने के बाद भी माफि याओं पर कार्रवाई को लेकर पुलिस का रवैय्या नहीं सुधर रहा। अफसर बार-बार कहते रहे हैं कि डूब क्षेत्र में रहने वाले लोगों को मोहरा बनाकर भू-माफियाओं ने ही पांच सितंबर को एनएच-24 पर बड़ा फसाद कराया था। अफसर यह तक दावे कर चुके हैं कि उपद्रव में शामिल पचास से अधिक लोगों की गिरफ्तारी के बाद ऐसे माफिया निशाने पर हैं। कई को कार्रवाई के लिए चिह्न्ति भी किया जा चुका है। हालांकि इस बात को भी अब एक महीने का समय हो चुका है मगर पुलिस माफियाओं की भीड़ में से किसी एक आदमी पर हाथ डालने की हिम्मत नहीं जुटा चुकी है। शायद, यह माफियाओं के प्रभाव का नतीजा है जो पुलिस कभी उनकी ओर देखना नहीं चाहती।


डूब क्षेत्र के हालात अब भी ठीक नही हैं। हिंडन नदी के बिल्कुल करीब अवैध निर्माण का सिलसिला अब भी जारी है। डूब क्षेत्र की जमीन पर निर्माण हो रहा है और उसकी आड़ में भू-माफिया अपनी जेबें भर रहे हैं मगर अब न पुलिस को कुछ दिख रहा और न प्रशासन को।


एडीएम सिटी एसके श्रीवास्तव इस मुद्दे पर सिर्फ इतना कहते हैं कि माफियाओं पर भी कार्रवाई होगी। मगर पुलिस यह काम कब तक करेगी, करेगी कि नहीं, इसकी गारंटी शायद उनके पास भी नही है।

102 माफियाओं पर एफआईआर, कार्रवाई एक पर भी नहीं
डूब क्षेत्र में फसाद से पहले नोएडा विकास प्राधिकरण ने विजयनगर थाने में 102 माफियाओं को चिह्न्ति कर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। आरोप थे, माफिया मंडली ने प्राधिकरण की जमीनों पर कब्जा कर उन पर कॉलोनियां खड़ीं कर दीं। पुलिस ने इनमें से भी किसी माफिया पर कार्रवाई की जहमत नहीं उठाई है। शायद, उसे कानून की राह पर चलने की वजाए माफियाओं को माफी देने में ज्यादा फायदे का सौदा लग रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माफियाओं को माफी की वजह तो बताओ?