DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली से अगवा हुआ छात्र कानपुर में बरामद

दिल्ली के त्रिलोकपुर इलाके से शनिवार को अपहृत 9 वर्षीय छात्र को कानपुर जीआरपी ने मुक्त कराकर अपहरणकर्ता को दबोच लिया। छात्र पूर्वी दिल्ली के विधायक अनिल चौधरी का भतीजा है। छात्र को अगवा करने वाला रिक्शा चालक है जो उसे रोज स्कूल लाता ले जाता था। रिक्शा चालक ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर अपहरण की साजिश रची थी। दिल्ली के कल्याणपुरी थाने को सूचना दिए जाने के बाद कानपुर पहुँचे छात्र के परिवारीजन उसे अपने साथ ले गए।

दिल्ली के 137/50 त्रिलोकपुरी निवासी श्यामवीर ने बताया कि उनका इकलौता पुत्र अर्पित (9) इलाके के ही बाल विकास विद्या मंदिर में कक्षा 3 का छात्र है। पास में रहने वाला रिक्शा चालक देवेंद्र यादव उसको स्कूल लाता ले जाता था। शनिवार को भी वह बच्चों को लेकर स्कूल गया था। लेकिन शनिवार शाम तक अर्पित घर नहीं लौटा तो घर वालों को चिंता हुई।

परिवारीजन जब बच्चे को तलाश रहे थे तभी शाम को उनके पास फोन आया जिसमें बताया गया कि बच्चे का अपहरण कर लिया गया है। अपहृर्ताओं ने पाँच लाख फिरौती की डिमांड भी की। बच्चे के अपहरण से डरे पिता ने इसकी सूचना अपने मौसेरे भाई पूर्वी दिल्ली के विधायक अनिल चौधरी को दी। विधायक के दखल पर सक्रिय हुई दिल्ली के कल्याणपुरी थाने की पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर छापेमारी शुरू कर दी।

इसी बीच कानपुर में दिल्ली से श्रमशक्ति एक्सप्रेस के आने के समय चेकिंग कर रहे जीआरपी सिपाहियों ने पैदल पुल पर स्कूली ड्रेस पहने बच्चे को बेहोशी की हालत में एक युवक के साथ देखा। सिपाहियों ने शक होने पर युवक को टोका तो वह भाग खड़ा हुआ। इस पर सिपाहियों ने उसे दौड़ाकर पकड़ लिया। तलाशी में युवक के पास से एक तमंचा बरामद हुआ। पूछताछ में युवक ने अपना नाम दिल्ली के त्रिलोकपुरी का निवासी देवेंद्र यादव बताया।

उसने बच्चे को अगवा करने की बात भी स्वीकारी। युवक ने बताया कि उसने बच्चे को पिता का एक्सीडेंट होने की बात कहकर स्कूल से अगवा किया। अपहरण की साजिश में त्रिलोकपुरी निवासी उसके दोस्त मुखीम और जयन्ती भी शामिल हैं। जब वह बच्चे को लेकर कानपुर आ रहा था तब उसके दोस्त बच्चाे के घर वालों की गतिविधियों की जानकारी दे रहे थे। उसने बताया कि कानपुर के लिए निकलने से पहले ही उसने बच्चे के घर वालों से पाँच लाख फिरौती की माँग की थी। 

दिल्ली के बच्चे के अपहरण का खुलासा होने पर जीआरपी इंस्पेक्टर त्रिपुरारी पाण्डेय ने इसकी जानकारी कल्याणपुरी थाने को दी। वहाँ की पुलिस के दरोगा राजवीर सिंह और तीन सिपाहियों के साथ कानपुर पहुँचे परिवारीजन शाम को बच्चे के साथ दिल्ली चले गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली से अगवा हुआ छात्र कानपुर में बरामद