DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुरुषों से बेहतर हैं महिला मुक्केबाज

पुरुषों से बेहतर हैं महिला मुक्केबाज

ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप कांस्य पदक विजेता विजेंदर सिंह के हाल में अपने वर्ग में दुनिया का नंबर एक मुक्केबाज बनने तथा देश में पुरुष मुक्केबाजों के लगातार बेहतर प्रदर्शन के बावजूद चार बार की विश्व चैंपियन महिला मुक्केबाज एम सी मैरीकॉम का मानना है कि देश की महिला मुक्केबाज पुरुषों से बेहतर हैं।

इस वर्ष देश का सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न हासिल करने वाली मैरीकॉम ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि भारतीय महिला मुक्केबाज पुरुषों की तुलना में कहीं अधिक अंतरराष्ट्रीय पदक जीत रही हैं। मुझे ही देखिए, मैं लगातार चार बार से विश्व चैंपियनशिप का स्वर्ण पदक जीत रही हूं। देश के पुरुष मुक्केबाजों के साथ ऐसा नहीं है। उनका प्रदर्शन पहले से अच्छा हुआ है पर विजेंदर दुनिया का नंबर एक मुक्केबाज बनने के बावजूद अब तक विश्व चैपियनशिप में स्वर्ण पदक नहीं जीत पाए हैं।

राष्ट्रीय सीनियर महिला प्रतियोगिता में भाग लेने आई मणिपुर की मैरीकॉम ने कहा कि मेरे अलावा इस वर्ष की अर्जुन पुरस्कार विजेता एल सरिता देवी और कई अन्य महिला मुक्केबाजों ने कई अंतरराष्ट्रीय पदक जीते हैं। पदकों के मामले में हमारा प्रदर्शन पुरुषों से बेहतर है। उधर सरिता देवी ने भी मैरीकॉम की बात का समर्थन करते हुए कहा कि पुरुष मुक्केबाजों का प्रदर्शन पहले से जरूर बेहतर हुआ है पर महिलाएं अब भी उनसे बेहतर हैं।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुरुषों से बेहतर हैं महिला मुक्केबाज