DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैसे और कीर्ति ने क्रिकेटरों को भटकायाः पटौदी

पैसे और कीर्ति ने क्रिकेटरों को भटकायाः पटौदी

पूर्व भारतीय कप्तान मंसूर अली खान पटौदी का कहना है कि जल्द पैसा और ख्याति मिलने से कई भारतीय क्रिकेटरों को नुकसान पहुंचा है। उन्होंने साथ ही कहा कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड को मार्गनिर्देशक का काम करते हुए इन्हें सिखाना होगा कि इस लालच से कैसे बचें।

पटौदी ने सीएनएन-आईबीएन के कार्यक्रम डेविल्स एडवोकेट में करण थापर से कहा कि सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे कुछ खिलाड़ियों को छोड़कर आसान पैसा और ख्याति अधिकतर क्रिकेटरों के लिए भटकाने वाला साबित हुआ है। इसने खेल के प्रति उनके रवैये को प्रभावित किया है।

पटौदी का कहना है कि आसानी से मिल रहे पैसे और नाम के कारण ही आज अधिकांश क्रिकेटर खेल के प्रति उतने समर्पित नहीं हैं जितना उन्हें होना चाहिए। उन्हें जो नाम और ख्याति मिल रही है, उससे वह बर्बाद हो रहे हैं और लुभावनी पेशकशें भी मेरे समय के मुकाबले काफी बढ़ गई हैं। उन्होंने हालांकि कहा कि यह प्रत्येक खिलाड़ी पर निर्भर करता है कि वह खेल से मिले नाम और ख्याति से कैसे निपटता है।

पटौदी ने कहा कि मेरे हिसाब से कुछ लोग नाम और पैसे के बहाव में बह जाते हैं और कुछ नहीं। सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ का उदाहरण देखिए। वे अब भी उतने ही प्रतिबद्ध हैं जितने शुरुआत में थे। लेकिन दूसरी ओर एक या दो ऐसे खिलाड़ी भी है जो इससे प्रभावित हुए और टीम से बाहर हो गए लेकिन मैं उनका नाम नहीं लेना चाहूंगा। वह नाम और पैसे के मुताबिक ढलने में नाकाम रहे। अपने युग के करिश्माई खिलाड़ियों में शामिल पटौदी ने कहा कि युवाओं को बीसीसीआई के मार्गनिर्देशन की जरूरत है जिससे जल्द पैसा और ख्याति मिलने से उनका प्रदर्शन प्रभावित नहीं हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पढिए इस दिग्गज क्रिकेटर का आज के क्रिकेट पर नजरिया