DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अप्रैल से पहले नहीं बन पाएगा स्वाइन फ्लू का टीका

अप्रैल से पहले नहीं बन पाएगा स्वाइन फ्लू का टीका

स्वास्थ्य मंत्रालय के दावों के विपरीत विश्व स्वास्थ्य संगठन को भारत में स्वाइन फ्लू यानी इंफ्लूएंजा ए (एच1एन1) का प्रभावकारी टीका अगले साल अप्रैल से पहले बनने की संभावना नहीं नजर आ रही है।

डब्ल्यूएचओ के सूत्रों ने बताया कि भारत सरकार स्वाइन फ्लू का कारगर टीका बनाने की सभी प्रक्रियाओं का इस्तेमाल बहुत सतर्कता के साथ कर रही है। उसके निर्माण में किसी प्रकार की जल्दबाजी नहीं की जा रही है। सबसे बड़ी बात यह है कि इस टीके का क्लीनिकल परीक्षण भी भारत में ही किया जा रहा है ताकि वह इस देश के लोगों के अनुकूल और लाभकारी हो।

केंद्रीय स्वास्थ्य अनुंसधान विभाग के सचिव और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ.विश्व मोहन कटोच ने दावा किया कि आईसीएमआर की योजना इस टीके को मार्च के अंत तक तैयार करने की है। अगर कोई समस्या सामने नहीं आई तो यह निर्धारित समय में बन कर तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इस टीके को बनाते समय इसके रोगियों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जायेगा और हर तरह की सावधानी बरती जाएगी।

क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज बिल्लौर के वैज्ञानिकों ने सरकार को आगाह किया है कि वह देश में स्वाइन फ्लू के दूसरे चरण के मुकाबले के लिए पहले से ही पूरी तरह तैयार रहें, क्योंकि यह स्थिति अधिक भयावह और मत्यु दर बढ़ाने वाली होगी।

सूत्रों ने स्वीकार किया कि भारत में स्वाइन फ्लू के रोगियों और उससे मरने वालों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है और आने वाले मौसम को देखते हुए इनमें और अधिक वृद्धि की आशंका है। फिर भी भारत सरकार स्वाइन फ्लू का टीका बनाने में किसी प्रकार की जल्दबाजी करने के पक्ष में नहीं है। वह जांच की सभी आवश्यक प्रक्रियाओं को अपना रही है। यह कार्य आसान नहीं है। इसमें समय लग सकता है और इस टीके के अप्रैल से पहले बनने की संभावना नहीं है। इस बात की पूरी संभावना है कि कुछ देश भारत से पहले यह टीका तैयार कर लेंगे। ऐसी स्थिति में भारत जब तक अपना प्रभावकारी टीका तैयार नहीं कर पाता है तब तक उसे विदेशों से टीका आयात करना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अप्रैल से पहले नहीं बन पाएगा स्वाइन फ्लू का टीका