DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जल्दी भरे जाएंगे वन विभाग के खाली पद

उत्तराखण्ड के प्रमुख वन संरक्षक डा आरबीएस रावत ने कहा कि वन विभाग में कर्मचारियों के एक चौथाई पद खाली हैं। इससे काम काज प्रभावित हो रहा है। इन पदों पर जल्दी ही भर्तियां की जाएंगी। उन्होंने कहा कि टिहरी ङील के ऊपर हरित पट्टी विकसित करना जरूरी है जिससे भूस्खलन व भूक्षरण रोका जा सके। इसके लिए पौधरोपण की दीर्घकालीन नीति बनाने की आवश्यकता है।

कहा कि इस बारे में टिहरी बांध के अधिकारियों के साथ जल्दी ही बैठक की जाएगी। बताया कि विभाग के 100 पुराने डाक बंगलों का जीर्णोद्धार आउटसोर्सिग के जरिए किया जाएगा। उन्होंने चंबा ऋषिकेश मोटर मार्ग पर विकसित किए जा रहे इको टूरिज्म स्पॉट की तरह ही हर जिले में कम से कम छह स्पॉट विकसित करने की बात कही।

टिहरी के दो दिवसीय दौरे पर आए डा. रावत ने हिन्दुस्तान के साथ बातचीत में कहा कि प्रदेश में वन अधिनियम की वजह से विकास कार्य न रुकें। इसके लिए उन्होंने कई बार खुद लखनऊ नोडल दफ्तर जाकर आठ महीने के भीतर ही 300 मामले निपटाए। उन्होंने कहा कि पर्वतीय इलाके में जड़ी-बूटी उत्पादन को प्रोत्साहन देने के लिए 50 से अधिक विपणन केन्द्र खोले गए हैं।

वन निगम के माध्यम से संचालित केन्द्रों पर बाजार भाव के तहत मूल्य निर्धारित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के मापदण्डों को ध्यान में रखकर स्थानीय काश्तकारों को ही जड़ी बूटी निकालने का हक मिलेगा। कहा कि प्राकृतिक जल स्नोतों को रिचार्ज करने के लिए जलदायी पौधे लगाए जाएंगे। इसके साथ ही दालचीनी, बांज, खैर, आंवला, बहेड़ा, बांस के पौधे लगाने पर जोर दिया।

उन्होंने बताया कि हिंसक जंगली जानवरों द्वारा मौत के घाट उतारे गए बच्चाों के परिजनों को अब एक लाख रुपये मुआवजा मिलेगा। इस मौके पर भागीरथी वृत्त के वन संरक्षक गंभीर सिंह, प्रभागीय वनाधिकारी एमके जोशी, प्रभागीय वनाधिकारी टिहरी डैम बालेश्वर सिंह आदि भी
मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जल्दी भरे जाएंगे वन विभाग के खाली पद