DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छतों पर सैकड़ों टावर दे रहे मौत को दावत

शहर की छतों पर सैकड़ों मोबाइल टावर मौत को दावत दे रहे हैं लेकिन इसकी सुध लेने के लिए न तो कंपनी के पास कोई इंतजाम है न ही प्रशासन के पास वक्त। शुक्रवार को सेक्टर-10 में हुए टावर हादसे के बाद अब टावर के आसपास रहने वाले लोग डरे व सहमे हैं। कंपनी से एग्रीमेंट होने के बाद टावर की देखभाल की जिम्मेदारी किसी के पास भी नहीं है।

शहर में दो सौ से अधिक टावर विभिन्न कंपनियों के लगे हुए हैं। इनमें अधिकतर को बगैर अनुमति व मानकों के विरूद्ध लगाया गया है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि एक बार टावर लगाने के बाद इसकी देखरेख  के लिए कोई मॉनिटरिंग सिस्टम डेवलप नहीं किया गया। शहर में अधिकतर टावर छतों पर लगा हुआ है। इसके कारण इसके टूटने व जर्जर होने की अवस्था में बड़ा हादसा हो सकता है।

कई सेक्टरों में तो स्कूलों व अस्पतालों के पास भी टावर लगाए गए हैं जो बिलकुल ही गलत है। शुक्रवार के हादसे के बाद से टावर संचालकों व मकान मालिकों के चहरे पर शिकन देखी जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छतों पर सैकड़ों टावर दे रहे हैँ मौत को दावत