DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाईकोर्ट बेंच : जागो शासन जागो, कलक्ट्रेट में बज गया नगाड़ा

वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच की स्थापना को लेकर चल रहे आंदोलन में गांधीगिरी जारी है। शनिवार को हाईकोर्ट बेंच को लेकर शासन को जगाने के लिए डीएम कार्यालय के बाहर कलक्ट्रेट में नगाड़ा बजाया गया और लोगों ने नारेबाजी कि ‘जागो शासन जागो।

’वैसे कलक्ट्रेट में नगाड़ा बजाने के लिए पुलिस और वकीलों में हल्की झड़प भी हुई। बाद में पुलिस को पीछे हटना पड़ा। नगाड़ा बजा और जोर-जोर से बजा। नगाड़ा बजाने के बाद वकीलों और जनप्रतिनिधियों ने सिटी मजिस्ट्रेट को गुलाब का फूल दिया और शासन तक हाईकोर्ट बेंच की मांग को पहुंचाने का आग्रह किया। उधर, हाईकोर्ट बेंच स्थापना केन्द्रीय संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने शनिवार को रजिस्ट्री कार्यालयों में कामकाज नहीं होने दिया। कलक्ट्रेट परिसर के सारे रजिस्ट्री कार्यालय दोपहर 12 बजे से पहले ही बंद हो गये।

शनिवार को पहले से चल रहे कार्यक्रम के तहत सभी वकील हड़ताल रहे। संघर्ष समिति के संयोजक सतीश कुमार शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष महिपाल सिंह, पूर्व अध्यक्ष एम.पी.शर्मा, सीनियर एडवोकेट अरुण शर्मा, कुंवर विनय सिंह आदि के नेतृत्व में सैकड़ो वकील कचहरी परिसर स्थित नानक चंद सभागार में एकत्रित हुए। वहां पहले से तीन नगाड़ों की व्यवस्था थी। बैण्ड पार्टी और नगाड़ों के साथ सभी वकील कलक्ट्रेट पहुंचे।

पुलिस के जवानों ने नगाड़ा बजाने से मना किया। इस पर युवा वकील जशपाल सिंह गुजराल, राम कुमार शर्मा, रवीन्द्र सिंह, आनन्द सिंह, तरुण शर्मा, जफर पाश, अनुज शर्मा आदि के साथ पुलिस की झड़प हो गई। युवा वकीलों की जिद के आगे बाद में पुलिस बल को पीछे हटना पड़ा। इसी बीच भाजपा से पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत वाजपेयी, कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा, मेयर मधु गुर्जर, पूर्व मेयर सुशील गुर्जर आदि भी नगाड़ा बजाने पहुंच गये।

कलक्ट्रेट में नगाड़ा बजाने का यह कार्यक्रम दोपहर में एक बजे तक चला। इसके बाद वकीलों  और जनप्रतिनिधियों ने डीएम के प्रतिनिधि के तौर पर सिटी मजिस्ट्रेट को गुलाब का फूल भेंट किया और उनसे शासन तक हाईकोर्ट बेंच आंदोलन की आवाज पहुंचाने का आग्रह किया। गांधीगिरी के तहत शनिवार का अलग कार्यक्रम रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हाईकोर्ट बेंच आंदोलन में गांधीगिरी जारी