DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेयजल किल्लत: करंट न आने से जलापूर्ति को झटका

गंगनहर से पानी बंद होने के बाद बीते चार दिनों से ट्रांस हिंडन की कई कालोनियों में जलसंकट गहरा गया है। बिजली किल्लत ने इस परेशानी को बढ़ा दिया है। पर्याप्त बिजली नहीं मिलने से कई नलकूप सही ढंग से संचालित नहीं हो पा रहे,इससे वैशाली,कौशाम्बी के अलावा डेल्टा कालोनियों में पानी संकट चरम पर है ही। ट्रांस हिंडन की कुछ और कालोनियों में पानी संकट को लेकर लोगों को इस भीषण गर्मी में जूझना पड़ रहा है। वैशाली जैसी पॉश कालोनी में कल दोपहर दो बजे से दस बजे तक बिजली आपूर्ति ठप रहने से नलकूप का संचालन प्रभावित हुआ।
वैशाली व वसुंधरा के दस नलकूपों पर जनसेट लगाकर नलकूपों से टंकियों को भरा गया लेकिन घरों में सप्लाई के वक्त बिजली कटौती होने से ऊपरी मंजिल पर रहने वालों को पानी नहीं मिला। बिजली न रहने से लोग पम्प नहीं चला पाए। कौशाम्बी में निगम का कोई नलकूप नहीं है। वहां वैशाली में लगे नलकूप से पानी की आपूर्ति की जाती है। कौशाम्बी में अधिकांश हाईराइज्ड टॉवर होने के कारण पानी ऊपरी मंजिल तक पहुंच ही नहीं पाता।

 कौशाम्बी कालोनी में रहने वालों को गंगजल की आपूर्ति बंद होने के बाद से रोजाना बाहर से खरीदकर पानी पीना पड़ता है। लोग गाड़ियों में दिल्ली तक से पानी लाकर काम चला रहे हैं। बृजविहार,राधाकुंज कालोनी में भी पानी की किल्लत है। उपरोक्त कालोनियों मे 29 सितंबर से रोजाना सिर्फ एक ही समय में पानी की आपूर्ति निगम कर पा रहा है। टीलामोड़ से लगभग 17 किमी दूर होने के कारण बृजविहार,सूर्यनगर तक पानी किल्लत बढ़ाने में लाइन लॉस भी महत्वपूर्ण फैक्टर है। गंगाजल की आपूर्ति बंद होने के बाद पानी की मांग और आपूर्ति में आकाश-जमीन का अंतर आ गया है। इसका खामियाजा बीते कई दिनों से लोग भुगत रहे हैं।


-
पानी की रोजाना मांग
-नौ कालोनियों में 72000 किलोलीटर गंगाजल की आपूर्ति ।
-सभी इलाकों में दोनों समय घरों में पहुंचता था पानी।
-ऊपरी मंजिल पर आसानी से की जाती थी जलापूर्ति
आपूर्ति में है आधे का अंतर
-अब निगम के ढाई दजर्न नलकूपों से होती है आपूर्ति
-वसुंधरा,वैशाली व टीलामोड़ पर लगे हैं ये नलकूप
-रोजाना 22 से 24 हजार कि.ली उत्पादन होता है पानी
-पहले के मुकाबले आपूर्ति है आधा से भी बहुत कम
-निगम के नलकूपों की क्षमता मात्र 6 से 10 एच पी है
-निगम अब मात्र एक ही वक्त कर पाता है जलापूर्ति
यहां है जबरदस्त किल्लत
-इंदिरापुरम की कई कालोनियों में घोर पेयजल संकट
-वैशाली,कौशाम्बी में लोग तरस रहे पाने के पानी को 
-कौशाम्बी में एक भी नहीं है नगर निगम का नलकूप
-डेल्टा कालोनियों में है नहीं पहुंच पाता प्रेशर से पानी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पेयजल किल्लत: करंट न आने से जलापूर्ति को झटका