DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चपरासी-बावर्ची के लिए एमए बीएड डिग्रीधारियों में भी मारामारी

हाय री बेरोजगारी। चपरासी-बावर्ची पद लपकने के लिए भी मारामारी है। जिले में चल रहे कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालयों में एक दजर्न पद के लिए विज्ञापन निकला। इसके लिए करीब दस हजार आवेदन मिले हैं। आलम यह है कि बावर्ची के एक पद के लिए 400 लोगों ने आवेदन भरा। इनमें सौ से अधिक आवेदक एमए और बीएड पास हैं। चपरासी पद का भी यही हाल है।

चपरासी-बावर्ची पद के लिए मिले उच्च डिग्रीधारियों का आवेदन देख कर अधिकारी भी हतप्रभ हैं। उनकी मजबूरी यह है कि इस पद के लिए दावेदारी मैट्रिक में मिले अंक के आधार पर होनी है। इस कारण नाइट गार्ड के लिए 15 और कुक के लिए 17 आवेदकों को साक्षात्कार में बुलाया गया है।

शिक्षक के नौ पद के लिए मिले दस हजार आवेदन में से 41 को स्कूट्रनी के बाद पांच अक्तूबर से होनेवाले इंटरव्यू में आमंत्रित किया गया है। कुल नौ शिक्षक, दो बीपीओ, एक जेइ, नाइट गार्ड और चपरासी की नियुक्ति की जानी है। इन पदों के लिए विभाग को मिले दस हजार आवेदनों में से स्क्रूटनी के बाद 176 को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चपरासी-बावर्ची के लिए एमए बीएड में भी मारामारी