DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंध्र व कर्नाटक में बाढ़ का कहर, 177 मरे

आंध्र व कर्नाटक में बाढ़ का कहर, 177 मरे

कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में भीषण बाढ़ के कहर से अब तक 177 लोगों की जान जा चुकी है तथा लाखों अन्य बेघर हो गए हैं। वायुसेना के हेलीकाप्टरों की मदद से सेना ने शनिवार को अपने बचाव अभियान को तेज करते हुए जलमग्न क्षेत्रों में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पंहुचाने पर ध्यान केन्द्रित करना शुरू कर दिया।

कर्नाटक में पिछले छह दिनों के दौरान हुई मूसलाधार वर्षा में 156 लोगों की जान गई जबकि 15 जिलों में एक लाख से अधिक मकान जलमग्न हो गए।

दूसरी ओर, आंध्र प्रदेश के पांच जिलों कुनरूल, महबूबनगर, गुंटूर, कष्णा और नलगोंडा में बाढ़ के कारण 16 लोगों की जान जा चुकी है। जलमग्न क्षेत्रों से करीब साढ़े चार लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। आंध्र प्रदेश के सबसे अधिक प्रभावित कुनरूल और महबूब नगर जिलों में थोड़ी राहत के संकेत मिले हैं तथा बाढ़ के पानी का स्तर घट रहा है। कर्नाटक के तटवर्ती क्षेत्रों और बेल्लारी जिले को छोड़कर अधिकतर हिस्सों में वर्षा बंद हो गयी है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दोनों राज्यों में इस प्राकृतिक आपदा की वजह से मरने वालों की संख्या और बढ़ने की आशंका है क्योंकि आंध्र प्रदेश में बाढ़ से प्रभावित अनेक हिस्सों में अभी तक बचाव दल की पहुंच सम्भव नहीं हो सकी है। उत्तराकंड के कादावड़ा गांव में जमीन खिसकने से करीब 21 लोगों के मलबे में दब जाने की आशंका है। इलाके से दो शव बरामद किए जा चुके हैं।

इस बीच, उत्तरी कर्नाटक में मूसलाधार बारिश शनिवार को भी जारी रही। इस वर्षा के कारण हुए हादसों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 161 हो गई। क्षेत्र के बहुत बड़े हिस्से में पानी भर गया है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक बाढ़ से सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए बीजापुर जिले में इस आपदा से मरने वालों की संख्या बढ़कर 30 हो गई है। पड़ोसी जिले बागलकोट में 20 लोगों, रायचूर में 19, गुलबर्गा में 18, कोप्पल में 17, बेल्लारी में 12, दावनगेरे में नौ, चित्रदुर्ग में आठ, गागड़ में सात, बेलगाम में छह, उत्तराकंड में पांच, बीदर में चार और धारवाड़ में एक व्यक्ति की इस प्राकतिक आपदा में मौत हुई है।
कर्नाटक के गृह मंत्री वीएस आचार्य ने कहा कि मूसलाधार बारिश की वजह से 103291 मकानों को नुकसान हुआ है और सरकार ने बाढ़ पीड़ित 123653 लोगों के लिए 479 राहत शिविर खोले हैं। मुख्यमंत्री बी़ एस़ येद्दयुरप्पा ने बेल्लारी, कोप्पल और रायचूर के अलावा जलमग्न शहर मंत्रालय का हवाई सर्वेक्षण किया। बचावकर्मियों ने कूर्नल जिले से डेढ़ लाख लोगों, महबूबनगर से 1.34 लाख लोगों, कृष्णा जिले से 15 हजार लोगों और गुंटूर जिले से पांच हजार लोगों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से निकाला है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रोसैया ने कहा कि जल स्तर घटने से कुनरूल और महबूबनगर जिलों की स्थिति में सुधार आया है। मुख्यमंत्री ने इस प्राकृतिक आपदा में मारे गए लोगों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये की सहायता तथा घायल हुए लोगों को आर्थिक मदद करने की घोषणा की है।

दोनों राज्यों के वर्षा एवं बाढ़ प्रभावित इलाकों में सड़क तथा रेल यातायात पर बुरा असर पड़ा है। भारतीय वायुसेना ने बेल्लारी जिले में गले तक भरे पानी में फंसे 12 लोगों को बचाया। इसी प्रकार कर्नाटक की सीमा से लगे आंध्र प्रदेश के मंदिरों वालों नगर मंत्रालय में बाढ़ में फंसे 32 लोगों को बचाया गया। भारतीय सेना ने आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित जिलों में बचाव एवं राहत कार्य चलाने के लिए आठ चिकित्सा दल और एक इंजीनियर कार्य बल सहित 700 कर्मियों को तैनात किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आंध्र व कर्नाटक में बाढ़ का कहर, 177 मरे