DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोयला खदान से स्वच्छ उर्जा उत्पादन में मदद करेगा अमेरिका

कोयला खदान से स्वच्छ उर्जा उत्पादन में मदद करेगा अमेरिका

जलवायु परिवर्तन रणनीति के तहत भारत के साथ सहयोग बढ़ाने की योजना के मद्देनजर अमेरिका ने छत्तीसगढ़ की कोयला खदान से कोल बेड मिथेन (सीईएम) के व्यावहार्यता अध्ययन का वित्त पोषण करने का फैसला किया है। इससे खदान से स्वच्छ उर्जा का उत्पादन हो सकेगा।

व्यावहार्यता अध्ययन निजी कंपनी द्वारा किया जाएगा। इसके लिए धन अमेरिकी व्यापार एवं विकास एजेंसी (यूएसटीडीए) मुहैया कराएगी। यह अध्ययन सीबीएम जिसे प्राकतिक गैस कहा जाता है, के उत्पादन के लिए किया जा रहा है। अमेरिका से मिलने वाली 5,24,819 डॉलर की मदद टेक्नोलॉजी के जरिए कोयला ब्लाकों से प्राकृतिक गैस की खोज के लिए दी जा रही है।

यूएसटीडीए ने कहा है कि इस परियोजना के जरिए अमेरिका और भारत के बीच ग्रीन हाउस गैसों के उत्सजर्न को कम करने के लिए तकनीकी एवं व्यापारिक सहयोग बढ़ेगा।

अमेरिकी एजेंसी ने कहा है कि स्वच्छ उर्जा तकनीक के मामले में अमेरिका सबसे आगे है। यह मदद विभिन्न देशों को अत्याधुनिक उपकरण उपलब्ध कराने की पहल के तहत पहला कदम है।

यूएसटीडीए ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था छह से सात प्रतिशत की दर से बढ़ रही है। हालांकि, उभरती अर्थव्यवस्थाओं पर जिस तरह ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन रोकने की प्रतिबद्धता का दबाव बढ़ रहा है, ऐसे में भारत के समक्ष अपनी विकास जरूरतों को पर्यावरण को बचाते हुए पूरा करना एक बड़ी चुनौती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोयला खदान से स्वच्छ उर्जा उत्पादन में मदद करेगा अमेरिका