DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डू नॉट डिस्टर्ब

डू नॉट डिस्टर्ब

सितारे : गोविंदा, सुष्मिता सेन, लारा दत्ता, रितेश देशमुख, सोहेल खान, राजपाल यादव, मनोज पाहवा और रणवीर शौरी
निर्माता :  वाशु भगनानी / पूज एंटरटेनमेंट और बिग पिक्चर्स
निर्देशक : डेविड धवन
स्क्रीनप्ले : यूनुस सेजवाल
गीत :  समीर
संगीत : नदीम-श्रवण
कहानी : राज (गोविंदा) एक अमीर बिजनेसमैन है, लेकिन अपनी पत्नी किरण (सुष्मिता सेन) के हाथों की कठपुतली भी। राज एक मॉडल बेबो (लारा दत्ता) का दीवाना है। एक दिन किरण को राज के अफेयर का पता लग जता है, जिसे छिपाने के लिए वह अपने सेक्रेटरी (मनोज पाहवा) के कहने पर गोवर्धन (रितेश देशमुख) को बेबो का प्रेमी बनाकर पेश कर देता है, लेकिन किरण इस राज से पर्दा हटाने के लिए अपने एक पुराने दोस्त बीडी (रणवीर शौरी) की मदद लेती है, जो कि एक जसूस है। इसी बीच बेबो का पुराना प्रेमी डीजल (सोहेल खान) भी आ धमकता है। ऐसे में जब एक नाजुक मोड़ पर राज की मुलाकात अपने पुराने नौकर मंगू (राजपाल यादव) से होती है तो कहानी में एक नया ट्विस्ट आ जाता है।

निर्देशन : डेविड धवन के लिए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर कोई नया विषय नहीं है। इस लिहाज से उन्होंने इस फिल्म में भी अपना चिर-परिचित अंदाज दोहराया है। उन्होंने अपने मूल-मंत्र को कायम रखते हुए दर्शकों के लिए बेहिसाब ठहाकों का इंतजाम किया है। कहानी में कोई नयापन नहीं है, इसलिए डेविड का ध्यान ग्लैमरस गीतों और गोविंदा की वरायटी से भरी कॉमेडी पर अधिक दिखता है। जो लोग डेविड के निर्देशन से वाकिफ हैं, उनके लिए यह फिल्म सौ फीसदी ठहाकों भरा मनोरंजन है।


अभिनय : डेविड के निर्देशन में गोविंदा हर बार एक नए अंदाज में दिखाई देते हैं। इस फिल्म में वह एक नई वरायटी के साथ हैं। लारा और सुष्मिता ने उनका अच्छा साथ दिया है। लारा और सुष्मिता बेहद ग्लैमरस भी लगी हैं। रितेश देशमुख लंबे शॉट्स में भी गोविंदा के साथ सहज दिखे। सोहेल खान ओके टाइप और राजपाल यादव ने रुटीन एक्टिंग की है तथा रणवीर शौरी रहे एकदम परफेक्ट।  


गीत-संगीत : ‘ओ मेरी बेबो..’ फिल्म का सबसे बढ़िया गीत है। इसके अलावा ‘जुल्फें खोल खाल के’ के बीट्स काफी अच्छे हैं।
क्या है खास :  फिल्म के लोकेशंस काफी अच्छे हैं। गीतों का फिल्मांकन, गोविंदा और रितेश के कॉमेडी पंच और होटल में फिल्माया गया क्लाइमैक्स।
क्या है बकवास : दिल्ली में ऐसा होता है, दिल्ली में वसा होता है, पर फिल्म में दिल्ली तो दूर-दूर तक नहीं है।
पंचलाइन : हंसो, हंसाओं और खुशियां मनाओ के मूल-मंत्र के साथ डेविड की रुटीन मसाला रेसिपी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डू नॉट डिस्टर्ब