अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस को अलग कर लालू-पासवान एक

बिहार में लोकसभा के चुनाव में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद एवं लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान ने आपस में सीटों का बंटवारा कर कांग्रेस को उसकी हैसियत दिखा दी। कल तक एक दूसर को फूटी आंख भी नहीं सुहाने वाले ये दोनों नेता आपस में गले मिल गए और कांग्रेस अलग-थलग पड़ गई।ड्ढr लालू और पासवान ने बिहार में लोकसभा की 40 में से क्रमश: 25 और 12 सीटें आपस में बांट लीं और कांग्रेस के लिए पिछले चुनाव में उसके द्वारा जीती गई सिर्फ तीन सीटें छोड़ दीं। लालू और पासवान ने मंगलवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन में सीटों के तालमेल की घोषणा की लेकिन इस मौके पर कांग्रेस का कोई प्रतिनिधि उपस्थित नहीं था।ड्ढr ड्ढr इस बारे में पूछे जाने पर लालू न कहा, हमने उन्हें नहीं बुलाया था। कांग्रेस को पिछले चुनाव में चार सीटें दी गई थीं। राजद और लोजपा ने झारखंड में भी मिलकर चुनाव लड़ने का ऐलान किया। लालू और पासवान ने संयुक्त रूप से कहा कि वे यूपीए में शामिल हैं और रहेंगे तथा तीसरे मोर्चे से उनका कोई लेना-देना नहीं है। उनके अनुसार राजद और लोजपा के बीच समझौता सच्चाई और यथार्थ पर आधारित है। पासवान ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस के नेताओं से बार-बार तालमेल के लिए तीनों दलों की बैठक बुलाने का आग्रह किया लेकिन कांग्रेस के नेता राजद और उनके साथ अलग-अलग बात करने पर जोर देते रहे। नतीजतन उन्होंने राजद के साथ अपना तालमेल कर लिया। राकांपा के लिए सीट नहीं छोड़े जाने पर लालू ने कहा कि तारिक अनवर राज्यसभा के सदस्य हैं और उनके लिए अब सीट छोड़ने की कोई जरूरत नहीं है।ड्ढr ड्ढr साधु यादव की नाराजगी के बारे में लालू ने कहा, जो विरोध करेगा उसे पार्टी से निकाल दिया जायेगा। साधु को जहां से चुनाव लड़ना है लड़ें। लालू न कहा कि कांग्रेस का जितना हक था, हमने उतनी सीटें छोड़ दी हैं। पासवान ने कहा कि राष्ट्रहित को सर्वोपरि मानकर उन्होंने यह समझौता किया है। बेट को फिल्म में स्थापित करन के लिए प्रकाश झा को टिकट देने के आरोप पर पासवान न कहा, उनका बेटा अपनी योग्यता पर फिल्म में गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांग्रेस को अलग कर लालू-पासवान एक