DA Image
17 फरवरी, 2020|12:35|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिकॉर्ड रखें

ज्यादातर सेलेरी लेने वाले लोग सोचते हैं कि बिल के रिकॉर्ड रखना व्यावसायियों और प्रोफेशनल का ही काम है लेकिन कुछ क्षेत्र ऐसे है जहां उन्हें महत्वपूर्ण जानकारियों को संभाल कर रखना होता है।

अदायगी  : कंपनी अपने कर्मचारियों के कई खर्चो की अदायगी करती है। कर्मचारी को अमाउंट क्लेम करने के लिए इन बिलों को जमा करना होता है। उदाहरण के तौर पर कंपनी कर्मचारी के टेलीफोन बिल, आवागमन और अखबार जैसे खर्चो की अदायगी करते हैं। इन सभी मामलों में कर्मचारी को अपने बिल जमा करने होते होते हैं। इन बिल को जमा न करने की स्थिति में अकाउंट डिपॉटमेंट इनकी अदायगी नहीं करता है, जिससे व्यक्ति कंपनी द्वारा दी जाने वाली इस सुविधा का लाभ नहीं उठा पाता।

मेडिकल खर्च : कंपनियां कर्मचारियों को उनके मेडिकल खर्च और खरीदी जाने वाली दवाइयों की अदायगी करती है। 15,000 तक इस राशि में टैक्स से छूट मिलती है। इससे फायदा यह होता है कि इस राशि की अदायगी होने पर उनसे टैक्स के रूप में अमांउट काटा नहीं जाता। इसलिए इस स्थिति में ओरिजनल बिल ही लगाने चाहिए। वर्ष के अंत तक इन बिलों को रिकॉर्ड अपने पास रखना चाहिए।

ट्रेवल : कई कंपनियां छुट्टियों में बाहर घूमने के खर्च की अदायगी करती है। एलटीए (लीव ट्रेवल अलाउंस) के नियम के मुताबिक चार वर्ष में से दो बार एलटीए के माध्यम से टैक्स में छूट मिलती है। ऐसे में अगर कर्मचारी इसे टैक्स बचाने के लिहाज से क्लेम करने जा रहा है तो उसे ओरिजनल टिकट जमा करनी होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:रिकॉर्ड रखें