DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर रोज खर्च करेंगे एक करोड़

सिंचाई विभाग कुंभ मेला तैयारियों से जुड़े कार्यो को पूरा करने के लिए जादू का पिटारा खोलने जा रहा है। सिंचाई विभाग ने डेढ़ वर्ष की अवधि में 19 करोड़ रुपये के कुछ निर्माण पूरा कर लिया है। अब शेष 28 निर्माण कार्य एक माह की अवधि में 31 अक्टूबर तक 26 करोड़ रुपये खर्च कर निर्माण पूरे करने की जिम्मेदारी विभाग पर आन पड़ी है।

सिंचाई विभाग को कुंभ व्यवस्थाओं के लिए सर्वाधिक 36 कार्यो के निर्माण की जिम्मेदारी शासन ने सौंपी है। इसमें कई घाट, सड़कें, पुल, टूटे घाटों की मरम्मत और अस्थाई कार्य शामिल है। विभाग 30 सितंबर तक केवल आठ योजनाओं को ही पूरा कर पाया है। यह सभी कार्य लोकार्पण की बाट जोह रहे हैं। विभाग की 36 योजनाओं के लिए शासन ने 45.61 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत की है। इनमें से लगभग 44 करोड़ रुपए स्थाई कार्यो और शेष अस्थाई निर्माण कार्यो पर खर्च होंगे। विभाग अभी तक 19.74 करोड़ रुपये की धनराशि के ही निर्माण कार्य करा पाया है।

उत्तराखंड शासन ने कुंभ से जुड़े सभी स्थाई कार्यो को पूरा करने की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर घोषित की है, ऐसे 28 योजनाओं पर 26 करोड़ रुपए की धनराशि खर्च कर कार्य गुणवत्ता से पूरा करने का चुनौती भरा कार्य होगा। कुंभ के कुछ कार्यो को हथियाने के लिए विभाग में आपाधापी मची है। इन कार्यो की निविदाएं एक बार निरस्त की जा चुकी हैं।

विभाग के नोडल अफसर/अधीक्षण अभियंता एके दिनकर ने शासन से स्वीकृति की प्रत्याशा में निविदाएं आमंत्रित कर ली थी, जिन्हें बाद में निरस्त कर दिया गया। शासन ने उन कार्यों की स्वीकृति जारी कर दी हैं।सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता डीडी डालाकोटी ने बताया कि विभाग के आठ कार्य पूरे हो गए हैं, शेष 12 पर काम शुरू हो चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हर रोज खर्च करेंगे एक करोड़