DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षक ने की थी अपनी शिष्या की हत्या

ट्यूटर ने कक्षा बारह में पढने वाली छात्रा को प्यार के मोहपाश में ऐसा फंसाया कि छात्र अपने घर से जेवरात व नगदी लेकर टयूटर के साथ फरार हो गई। लेकिन छात्रा को क्या पता था कि जो उससे प्यार करता है वही उसकी हत्या कर देगा। छात्रा की हत्या करने के बाद टयूटर ने लाश को खेडी गांव के जंगल में ले जाकर फैंक दिया।

मामला यहीं शांत हो जाता अगर इसमें ग्रेनो पुलिस दिलचस्पी नहीं दिखाती। देहात एसपी को लगता था कि हत्या के पीछे एक गहरी साजिश है जिसके लिए वह लगातार इस केस में लगे रहें और आखिरकार युवती के हत्यारे तक उनके हाथ पहुंच गए।जानकारी के तहत 6 मार्च 09 को खेड़ी गांव में 17 वर्षीय लड़की की लाश मिली। पीएम के मुताबिक उसकी गला दबा हत्या की गई थी। मामला उस समय अज्ञात में दर्ज कर जांच शुरु की गई।

हालांकि उस समय पुलिस के पास उसकी शिनाख्त का भी कोई तरीका नहीं था।  पुलिस ने जिस समय लाश बरामद की थी उस समय छात्र की हथेली पर लाल स्याही से मोबाइल नंबर लिखा था। पुलिस ने उस मोबाइल को मिलाया तो वह बंद था। कुछ दिन बाद मोबाइल नंबर मिलाया गया तो चलता हुआ मिला।

यह मोबाइल छात्रा के पड़ोसी भगवान सिंह उरई जालोन का था। जांच के लिए एसएसआई मनोज पाठक को भेजा गया। जांच में पाया गया कि छात्रा भगवान के पडोस में रहने वाली कुमारी लाली गुप्ता उर्फ सोनिया थी। जिसे दो अक्टूबर 08 को मौहल्ले का ही अरविंद लोधी भगाकर ले गया था। वह उसे टयूशन पढ़ाता था। उरई कोतवाली ने अरविंद को छात्रा को भगाकर ले जाने के आरोप में जेल भेज दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शिक्षक ने की थी अपनी शिष्या की हत्या