DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पानी कारोबारियों के खिलाफ सर्वोदल आंदोलन ने खोला मोर्चा

किसी ने ठीक कहा है। तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिए होगा। यह साबित भी होने लगा है। पानी बचाने और इसका धंधा करने वालों के खिलाफ सर्वोदल आंदोलन ने अभियान चलाने का निर्णय लिया है। पानी व्यापारियों के मनमाने रवैये पर अकुंश और दोहन रोकने के लिए शुक्रवार को सर्वोदल आंदोलन के कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में पैदल दिल्ली कूच किया।

‘पानी का धंधा बंद करो’ ‘पानी बेचना महापाप है’ जैसे नारे लिखे बैनर लेकर प्रदर्शनकारी चल रहे थे। जगह-जगह रूककर प्रदर्शनकारियों ने लोगों को पानी बचाने और इसके कारोबारियों को सबक सिखाने का आह्वान किया। फरीदाबाद में पानी का स्तर लगातार गिर रहा है। कई जगहों पर तीन सौ फीट पर भी पानी नसीब नहीं। सौ फीसदी घरों में बाहर से पानी मंगाकर पीया जा रहा है। सर्वोदल आंदोलन के सचिव संजय शुक्ला ने बताया कि देश में पानी खरीद कर पीना पड़ रहा है।

एक लीटर बोतल की कीमत 12 से 30 रुपये चुकानी पड़ रही है। बड़ी कंपनियां लगातार पानी का दोहन कर रही हैं। इस ओर किसी का ध्यान नहीं। एक-एक बूंद पानी के लिए कई इलाकों में लोगों को तरसना पड़ रहा है। षडयंत्र के तहत पीने का पानी का अंतराष्ट्रीय व्यापार खड़ा किया जा रहा है। यात्रा पानी की धंधेबाजी, शौच के लिए शुल्क वसूली और श्मशान में दाह संस्कार के लिए धन खर्च के लिए था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पानी कारोबारियों के खिलाफ सर्वोदल आंदोलन ने खोला मोर्चा