DA Image
14 जुलाई, 2020|12:51|IST

अगली स्टोरी

उपमुख्यमंत्री ने घटना को भूमि विवाद का परिणाम माना

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि खगड़िया हत्याकांड भूमि विवाद का परिणाम है लेकिन इसके पीछे नक्सलियों का हाथ होने से भी इंकार नहीं है। शुक्रवार को घटनास्थल से लौटे उपमुख्यमंत्री  ने कहा  कि  फिलहाल वहां से नक्सलियों का कोई पर्चा तो नहीं मिला है लेकिन इलाका नक्सल प्रभावित जरूर है। जिस तरह से वारदात को अंजाम दिया गया है, उसका मकसद हत्या करना ही था।

प्रथम द्रष्टया यह नक्सली वारदात है। उप मुख्यमंत्री ने राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री नरेन्द्र नारायण यादव, परिवहन मंत्री रामानन्द सिंह और डीजीपी आनंद शंकर के साथ 1, अणे मार्ग जाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी आंखो देखा हाल बताया।  

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि इचराही गांव के लिए दो-तीन किलोमीटर दूर दियारा की जमीन पर लम्बे समय से खेती करते थे। अमौसी गांव के लोग उसी जमीन पर अपना दावा करते थे। जमीन का विवाद जरूर था लेकिन कभी भी स्थानीय थाने में कोई एफआईआर दर्ज नहीं कराया गया। गुरुवार की रात इचराही गांव के लोग खेत में सोए थे। देर रात बड़ी संख्या में हमलावरों ने उन्हें एक ही रस्सी से बांध कर काफी नजदीक से गोली मार दी।

सोलह लोग मारे गये। हरेक मृतक के शरीर पर गोली के दो या तीन निशान है। इससे लगता है कि हमलावर हत्या करने की नियत से ही आए थे। श्री मोदी ने विरोधी दलों पर घटिया राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि हत्याकांड से पूरे इलाके में दुख का माहौल है। फिर भी राजद और लोजपा के चंद लोगों ने राजनीतिक लाभ के लिए नारेबाजी करके लोगों को उकसाने को कोशिश की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:उपमुख्यमंत्री ने घटना को भूमि विवाद का परिणाम माना