DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक संकट अभी समाप्त नहीं हुआ: आईएमएफ

आर्थिक संकट अभी समाप्त नहीं हुआ: आईएमएफ

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत से यह गलतफहमी नहीं होनी चाहिए कि वित्तीय संकट समाप्त हो गया है। आईएमएफ ने यह भी कहा है कि देशों को ऐसी नीतियां तैयार करनी चाहिए जो पुनरुत्थान को सतत बनाए।

वर्ल्ड इकोनामिक आउटलुक जारी करते हुए आईएमएफ के मुख्य अर्थशास्त्री ओलिवियर ब्लानचार्ड ने कहा कि मौजूदा सुधार के संकेत को देखकर यह नहीं समझना चाहिए कि संकट समाप्त हो गया है। उन्होंने दुनिया के विभिन्न देशों से वैश्विक स्तर पर संतुलन और पुनरुत्थान को बरकरार रखने के लिए नीतियों में समन्वय स्थापित करने को कहा।

जी 20 देशों द्वारा प्रोत्साहन पैकेज को वापस नहीं लेने और इस संबंध में आपस में सहयोग करने पर बनी सहमति के बीच ओलिवर का यह बयान खासा अहम है।
 वैश्विक अर्थव्यवस्था की परिदृश्य के बारे में आईएमएफ ने कहा है कि आर्थिक गतिविधियां फिर से बढ़ने लगी हैं लेकिन वर्ष 2009 में विश्व अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर नकारात्मक दायरे में 1. 1 फीसद रहने की संभावना है।

आईएमएफ ने कहा है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर अगले साल 3 फीसद रहने की उम्मीद है। आईएमएफ ने कहा कि आर्थिक मंदी के बाद विभिन्न सरकारों के नीतिगत हस्तक्षेप से मांग में बढ़ोतरी हुई और अनिश्चितता घटी जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था की वद्धि में सुधार हुआ है।

बहरहाल, मुद्राकोष ने कहा है कि आर्थिक पुनरुत्थान की गति धीमी रहने की संभावना है क्योंकि वित्तीय प्रणाली अभी भी मजबूत नहीं हुई है। आईएमएफ ने यह भी कहा है कि भारत और चीन जैसे देशों के आर्थिक विकास से पुनरुत्थान को बल मिला है।

भारतीय अर्थव्यवस्था के संबंध में आईएमएफ ने वर्ष 2009 में आर्थिक वृद्धि 5.4 रहने का अनुमान जताया है। वर्ष 2010 में आर्थिक वद्धि दर 6.4 फीसदी रहने की संभावना व्यक्त की गई है। उल्लेखनीय है कि भारत की अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 6.1 फीसदी रही है। इस बात की उम्मीद जताई जा रही है कि सरकार के अनुमान के मुताबिक देश 6 फीसदी से अधिक की वृद्धि दर को हासिल कर लेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्थिक संकट अभी समाप्त नहीं हुआ: आईएमएफ