DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शारापोवा व जांकोविच में होगी खिताबी भिड़ंत

शारापोवा व जांकोविच में होगी खिताबी भिड़ंत

दुनिया की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी रूस की मारिया शारापोवा और सातवीं वरीयता प्राप्त सर्बिया की जेलेना जांकोविच के बीच शनिवार को पैन पैसिफिक ओपन टेनिस टूर्नामेंट का खिताबी मुकाबला खेला जाएगा।

शारापोवा ने शुक्रवार को खेले गए सेमीफाइनल में 11वीं वरीयता प्राप्त पोलैंड की एग्निस्का रदवांस्का को तीन सेटों तक खिंचे मुकाबले में 6-3, 2-6, 6-4 से शिकस्त दी जबकि जांकोविच ने 15वीं वरीयता प्राप्त चीन कीली ना की चुनौती को लगातार सेटों में 6-4, 6-3 से ध्वस्त करते हुए फाइनल में जगह बनाई।

तीन बार की ग्रैंड स्लैम विजेता और फिलहाल विश्व रैंकिंग में 25वें स्थान पर काबिज शारापोवा ने पहला सेट आसानी से जीतकर धमाकेदार शुरुआत की, लेकिन दूसरे सेट में उन्होंने दो बार डबल फाल्ट किए और रदवांस्का को 5-2 की बढ़त बनाने का मौका मिल गया। रदवांस्का ने इसके बाद आठवें गेम में अपनी सर्विस बरकरार रखते हुए सेट अपने नाम कर लिया।

वर्ष 2005 में यहां खिताब जीत चुकी शारापोवा निर्णायक सेट में भी एक वक्त 0-2 से पिछड़ी हुई थीं लेकिन इसके बाद उन्होंने जबर्दस्त वापसी करते हुए 5-3 की बढ़त बनाई और अगले गेम में चौथे मैच प्वाइंट पर क्रासकोर्ट शॉट लगाकर फाइनल का टिकट कटा लिया। कंधे की चोट से उबरने के बाद से शारापोवा अब तक कोई खिताब नहीं जीत पाई हैं।

इससे पहले जांकोविच ने 20 लाख डालर इनामी राशि के इस टूर्नामेंट के पहले सेमीफाइनल में चीनी खिलाड़ी को आसानी से हरा दिया। मैच के बाद विश्व की आठवें नंबर की खिलाड़ी जांकोविच ने कहा कि मैं अपनी लय में आ रही हूं। हालांकि मेरे लिए यह साल बेहद कठिन रहा है लेकिन फिर भी मेरे पास इस सत्र में तीसरा खिताब जीतने का मौका है।

इससे पहले जांकोविच ने फ्रांसीसी खिलाड़ी को अपने ऊपर हावी होने का कोई मौका नहीं दिया और सीधे सेटों में मुकाबला अपने नाम करते हुए अंतिम चार का सफर तय कर लिया। जांकोविच की पिछले पांच मुकाबलों में बार्तोली पर यह पहली जीत है।

छह शीर्ष वरीय खिलाड़ियों के टूर्नामेंट से बाहर होने के बाद अब खिताब की दौड़ में जांकोविच ही सर्वोच्च रैंकिंग वाली खिलाड़ी बची हुई हैं। दुनिया की शीर्ष दस खिलाड़ियों में से अब जांकोविच और विश्व की नौंवे नंबर की खिलाड़ी बेलारूस की विक्टोरिया अजारेंका की चुनौती ही 20 लाख डालर इनामी राशि के इस टूर्नामेंट में बाकी रह गई है।

जीत के बाद जांकोविच ने कहा कि अब मैं पूरे मनोयोग से टेनिस खेल रही हूं। इस वर्ष मुझे कई परेशानियों से दो-चार होना पड़ा। मेरी मां बीमार हो गई और उनका आपरेशन कराना पड़ा। यूएस ओपन में दूसरे दौर के मैच से पहले मेरी नानी का देहांत हो गया। इन घटनाओं से मेरा ध्यान टेनिस से हट गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शारापोवा व जांकोविच में होगी खिताबी भिड़ंत