DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोबाइल-इंटरनेट बैंकिंग करो बिंदास, हम जिम्मेदार नहीं: बैंक

मोबाइल-इंटरनेट बैंकिंग करो बिंदास, हम जिम्मेदार नहीं: बैंक

बैंक मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग के जरिए सातों दिन, चौबीसों घंटे सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए भले ही अपनी पीठ थपथपा सकते हैं, लेकिन इन बैंकों ने ग्राहकों को भेजे जाने वाले एसएमएस या ईमेल में किसी भी गड़बड़ी की जिम्मेदारी अपने सिर नहीं लेने का निर्णय किया है।

रिजर्व बैंक द्वारा पिछले साल बैंकों को मोबाइल बैंकिंग लेनदेन के संबंध में परिचालन दिशानिर्देश जारी किया गया जिसके बाद देश में लगभग सभी बैंकों ने यह सेवा शुरू की जिसके तहत ग्राहकों को उनके मोबाइल फोन पर सभी महत्वपूर्ण लेनदेन के बारे में एलर्ट भेजा जाता है।

अगर ग्राहक को समय पर एसएमएस या ईमेल एलर्ट नहीं मिलता या एलर्ट में त्रुटि पाई जाती है तो बैंकों ने इसकी जिम्मेदारी स्वयं पर नहीं लेने का निर्णय किया है। बैंकों का कहना है कि यह गड़बड़ी इस सुविधा के लिए मोबाइल या इंटरनेट जैसी सेवाएं प्रदान करने वाले तीसरे पक्ष की ओर से हो सकती है।

इसी तरह, इंटरनेट बैंकिंग भी तेजी से अपने पांव पसार रहा है क्योंकि इससे बैंकों की लागत की बचत होती है और साथ ही ग्राहकों को बैंक की शाखा या एटीएम गए बिना किसी भी समय बैंकिंग सुविधाएं लेने की सहूलियत मिलती है।

आईसीआईसीआई बैंक द्वारा 5 अक्तूबर से क्रेडिट कार्ड के नए नियम एवं शर्तों के मुताबिक, बैंक एलर्ट नहीं मिलने या मिलने में विलंब, त्रुटि के लिए जिम्मेदार नहीं होगा। इसी तरह के नियम अन्य कई बैंकों द्वारा भी लागू किए जा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोबाइल-इंटरनेट बैंकिंग करो बिंदास, हम जिम्मेदार नहीं: बैंक