DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हे राम ! समाधि परिसर में सीवर

राजघाट समाधि स्थल में गांधी जयंती मनाने के लिए चौकस सुरक्षा और सफाई व्यवस्था की गई है। कोने-कोने में को चमकाया गया है। लेकिन, रिंग रोड, राजघाट सर्विस लेन से सटी बाउंड्री के नीचे से गंदे पानी का लीकेज जारी है। बाउंड्री धंस भी गई और परिसर के भीतर काफी दूरी तक नाले (सीवर) जैसी स्थिति बन गई है। लगभग एक माह से यह स्थिति है और इसको दुरुस्त नहीं किया जा सका। मजबूरी में गांधी जयंती मनाए जाने के बाद ही समाधि स्थल परिसर में बने सीवर को हटाया जा सकेगा।

समाधि स्थल में रिंग रोड की तरफ से प्रवेश लेने पर दाहिनी तरफ पेयजल की व्यवस्था है। इस प्याऊ के चारों तरफ भी गंदा पानी जमा है। इससे कुछ कदम आगे ही सीवर बन गया है। राजघाट समाधि कमेटी के सचिव रजनीश कुमार ने बताया कि सर्विस रोड के पास रिंग रोड सीवर लाइन गई है। हो सकता है गंदा पानी उधर से ही लीक होकर आ रहा हो।

बीस दिन पहले से लीकेज हो रहा है। पहले कम, बाद में ज्यादा पानी आने लगा। गंदा पानी परिसर में जमा नहीं हो, इसके लिए पंप लगाकर उसे बाहर निकाला जा रहा है। समाधि स्थल के रख-रखाव की जिम्मेदारी सीपीडब्लूडी की है। सीपीडब्लूडी के अधिशाषी अभियंता (सिविल) चरण बाबू ने बताया कि लीकेज को दुरुस्त करने के लिए गांधी जयंती के बाद ही काम किया जा सकेगा।

किसकी जिम्मेदारी, कौन करेगा मरम्मत ?

राजघाट समाधि परिसर में बने नाले को दुरस्त करने का काम कौन करेगा, किसकी जिम्मेदारी है, यह बता पाना मुश्किल है। पिछले दिनों मुख्य सचिव ने भी इस लीकेज को देखा था। ‘हिन्दुस्तान’ ने सीपीडब्लूडी के अधिशाषी अभियंता चरण बाबू से बात की तो उन्होंने कहा कि जल बोर्ड यह काम देख रहा है।

कई अभियंताओं से बात करते हुए जल बोर्ड (पेयजल) के एक अभियंता से बात की गई, उन्होंने कहा कि सीवर लाइन वाली टीम यह काम देख रही है। सीवर लाइन के एक अभियंता से बात की गई तो उन्होंने बताया कि लीकेज हमसे संबंधित नहीं है। उसको दुरुस्त करने का काम सीपीडब्लूडी द्वारा ही होगा। उन्होंने बताया कि रिंग रोड सीवर लाइन समाधि स्थल बाउंड्री से करीब ढाई सौ मीटर दूर से जा रही है। उससे लीकेज नहीं हो रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हे राम ! समाधि परिसर में सीवर