DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टेट टैलेंट हंट में होगा मेरठ का जलवा

मेरठ की ठुमरी, दादरा और राग-रागिनी की गूंज अब प्रदेश स्तरीय मंच पर दिखाई देगी। प्रदेश में विलुप्त हो रही लोककलाओं को विस्तार देने के लिए उत्तर प्रदेश संस्कृति निदेशालय द्वारा स्टेट टैलेंट हंट का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें प्रदेश के सभी जिलों के कलाकार अपने-अपने क्षेत्र की लोककलाओं का प्रदर्शन करेंगे।

संस्कृति निदेशालय द्वारा विभिन्न जिलों की लोककलाओं से युवाओं को परिचित कराने और कलाओं का विस्तार करने के उद्देश्य से स्टेट टैलेंट हंट का आयोजन किया जा रहा है। नवंबर में आयोजित होने वाले इस टैलेंट हंट मेंं भाग लेने के लिए प्रदेश को आठ प्रमुख केंद्रों में बांटा गया है। जिसमें मथुरा, बरेली, झांसी, लखनऊ, इलाहाबाद, गोरखपुर, वाराणसी और मेरठ हैं।

पश्चिमांचल के आठ जिलों का प्रतिनिधित्व करने के लिए मेरठ केंद्र का निर्धारण किया गया है। जिसके अंतर्गत मेरठ सहित सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, बागपत, ज्योतिबाफुले, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर और बुलदंशहर जिले के कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे। टैलेंट हंट में विभिन्न केंद्रों से आए जिले के कलाकार लोककलाओं का प्रदर्शन करेंगे। सभी विधाओं के प्रथम तीन विजेताओं और सांत्वना पुरस्कार पाने वाले विजेता को निदेशालय द्वारा नकद धनराशि भेंट की जाएगी।

पश्चिमांचल के कलाकारों के निर्देशन के लिए मेरठ स्वतंत्रता संग्राम संग्राहलय के कोआर्डिनेटर मनोज गौतम को प्रभारी बनाया गया है, उन्होंने बताया कि‘टैलेंट हंट में कलाकार लोकगीत, लोकनृत्य एवं लोक वाद्ययंत्र का प्रदर्शन कर सकेंगे, जिसमें कजरी, चैती, ठुमरी एंड दादरा , होली नृत्य के साथ लोक गीतों में राग-रागिनी का प्रदर्शन होगा।

वाद्ययंत्र में क्षेत्रीय वाद्ययंत्रों बासुरी, हारमोनियम, तबला, वीणा और ढोलक की प्रस्तुति दी जाएगी। एकल या समूह दोनों ही तरह से कलाकार टैलेंट हंट में भाग ले सकेंगे’।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्टेट टैलेंट हंट में होगा मेरठ का जलवा