DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब आईएमएफ प्रमुख पर चला जूता

अब आईएमएफ प्रमुख पर चला जूता

अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के प्रमुख डोमनिक स्त्रास काह पर तुर्की में विश्वविद्यालय के एक छात्र ने गुरुवार को जूता फेंका। हालांकि जूता उन्हें लगा नहीं।

जींस, टी शर्ट और बिना बाह की जैकेट पहने युवक ने डोमनिक की ओर अपना सफेद रंग का जूता फेंका और कहा कि आईएमएफ, तुर्की से बाहर निकलो। जूता डोमनिक से एक मीटर दूर गिरा। विरोध प्रदर्शित करने के लिए जूते फेंकने की पहली घटना बीते साल इराक में हुई थी, जहां जैदी नामक एक पत्रकार ने अमेरिकी राष्ट्रपति बुश पर जूता फेंका था। इसके बाद दुनियाभर में इससे मिलती जुलती कई घटनाएं हुई थीं।

डोमनिक पर जूता फेंकने वाले युवक पर सुरक्षाकर्मियों ने जल्द काबू पा लिया। डोमनिक अपने भाषण के अंत में छात्रों के सवालों का जबाव दे रहे थे। जूता फेंकने की घटना के ठीक बाद एक अन्य युवक ने बिल्गी यूनिवर्सटी के कांफ्रेंस हॉल में एक बैनर लहराने की कोशिश की जिसे सुरक्षाकर्मियों ने नाकाम कर दिया। प्रदर्शनकारी दोनों युवकों को हिरासत में ले लिया गया। इस पूरे घटनाक्रम के दौरान डोमनिक शांत रहे।

लगभग 15 प्रदर्शनकारियों का एक समूह विश्वविद्यालय परिसर के बाहर आईएमएफ चोर, युद्ध कराने वाला और लोगों को गरीब बनाने वाला के नारे लगा रहे थे। घटना के बाद आईएमएफ की प्रवक्ता केरोलिन एटकिंसन ने प्रदर्शन पर विंडबनापूर्ण प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि छात्रों ने कम से कम विचार-विमर्श खत्म होने तक तो प्रतीक्षा की। आईएमएफ को लोगों से बात करने और उन्हें सुनने की जरूरत है, भले ही सब हमसे राजी नहीं हों।
 
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जूता फेंकने वाले छात्र का नाम एस उज्बेक है। वह वामपंथी झुकाव वाले बीरगुन नामक अखबार के संपादक के रूप में काम भी करता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब आईएमएफ प्रमुख पर चला जूता