DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटेल-नेहरु के बीच कोई असहमति नहीं थीः सोनिया

पटेल-नेहरु के बीच कोई असहमति नहीं थीः सोनिया

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गुरुवार को कहा कि जवाहर लाल नेहरू और सरदार वल्लभ भाई पटेल के मन में एक दूसरे के प्रति गहरा सम्मान था और उनके बीच कोई असहमति नहीं थी। सोनिया ने अपने लिखित संदेश में कहा कि कुछ लेखकों का यह दावा कि सरदार पटेल और पंडित नेहरू के बीच काफी असहमति थी। यह इतिहास का विकृत रूप है।

सोनिया के इस संदेश को यहां सरदार स्मारक में सामुदायिक भवन के उदघाटन समारोह में पढ़ा गया। सामुदायिक भवन का उदघाटन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने किया। संप्रग अध्यक्ष ने कहा कि उनका नजरिया अलग हो सकता है लेकिन इसने एक दूसरे के प्रति सम्मान, प्रशंसा और प्रेम या भारत की एकता और अखंडता को मजबूत बनाने के लिए साथ काम करने की उनकी क्षमता को कभी प्रभावित नहीं किया।
   
लोगों से सरदार पटेल के पदचिहनों पर चलने का आहवान करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि लोगों को पटेल द्वारा सुझाए गए एकता और अखंडता के रास्ते का अनुकरण करना चाहिए। तभी भारत एक शक्तिशाली देश के तौर पर उभर सकता है।
   
उन्होंने कहा कि पटेल देश के प्रति वचनबद्ध थे और वह भारत को प्रगतिशील और विकसित देश के तौर पर देखना चाहते थे। इस बीच, गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र ने उसी समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि अगर :नेहरू की बजाय:सरदार पटेल स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री होते तो देश में किसानों के आत्महत्या करने या जम्मू कश्मीर में आतंकवाद फैलने की नौबत नहीं आती। उन्होंने कहा कि अगर किसान का बेटा (पटेल) भारत के प्रधानमंत्री होते तो ऐसी स्थिति नहीं होती जिससे किसानों को आत्महत्या करना पड़ता।
   
गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर सरदार पटेल होते तो जम्मू कश्मीर में आतंकवाद भी नहीं होता और हमारे जांबाज जवान आतंकवादियों के हाथों नहीं मारे जाते। पटेल की दूरदृष्टि की सराहना करते हुए मोदी ने कहा कि पटेल के निधन से एक महीने पहले नवंबर 1950 में उन्होंने पंडित नेहरू को एक पत्र लिखकर चीन से खतरे के बारे तब उन्हें सावधान किया था।

मोदी ने कहा कि नेहरू को लिखे पत्र में पटेल ने कहा था कि भारत को चीन के संबंध में अपनी रक्षा नीति में बदलाव करने की आवश्यकता है क्योंकि पड़ोसी देश उसके लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है। उन्होंने कहा कि यह दर्शाता है कि पटेल कितने सही थे क्योंकि चीन आज भी भारत की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पटेल-नेहरु के बीच कोई असहमति नहीं थीः सोनिया