DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कस्तूरबा गांधी स्कूल में छात्राओं का टोटा

झारखंड में केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में छात्रओं का टोटा है। तमाम प्रयास के बावजूद अब भी 11309 सीटें खाली हैं। राज्य में 198 कस्तूरबा गांधी स्कूल चल रहे हैं। प्रत्येक में 200-200 छात्रओं की सीट है। इस प्रकार 39600 सीट में से 28291 छात्रओं का ही दाखिला हो पाया है।

शुरुआती दौर में कस्तूरबा गांधी स्कूल ने बेहतर नतीजे दिए। लेकिन अब अधिकारियों की लापरवाही के कारण सुदूर ग्रामीण क्षेत्र की छात्रओं को इसका पूरा फायदा नहीं मिल पा रहा है। छात्रओं की सीट भरने को लेकर कई बार अधिकारियों ने निर्देश दिए, लेकिन जिला शिक्षा अधीक्षकों ने दिलचस्पी नहीं दिखाई। बेहतर नतीजे देने के कारण तत्कालीन शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की ने इन स्कूलों में सीटों की संख्या बढ़ा कर 100 से 200 कर दी थी।

कोडरमा, प सिंहभूम, गढ़वा, देवघर की स्थिति खराबनिर्धारित सीट के अनुसार नामांकन के आंकड़े पर गौर करें तो कोडरमा सबसे फिसड्डी नजर आता है। प सिंहभूम नीचे से दूसरे और गढ़वा तीसरे स्थान पर है। इन जिलों में क्रमश: सर्वाधिक 1182, 1145 और 852 सीटें खाली है। बोकारो, रामगढ़, रांची, खूंटी, सिमडेगा ही ऐसे जिले हैं, जहां अपेक्षाकृत कम सीटें खाली रहीं।

हजारीबाग में 465, चतरा 800, धनबाद 501, गिरिडीह 405, गुमला 561, लोहरदगा 345,  पू सिंहभूम 573, सरायकेला 501, गोड्डा 737, देवघर 812, पाकुड़ 699, साहेबगंज 800, दुमका 290, जामताड़ा 252, पलामू 696 और लातेहार में 251 सीट खाली है।

प्रमंडलवार सीटें और नामांकन की स्थिति
प्रमंडल   निर्धारित सीट नामांकन
उत्तरी छोटानागपुर  10600  8360
दक्षिणी छोटानागपुर 7400  5939
कोल्हान   6400  4181
संथाल परगना  8800  5210
पलामू   6400  4601

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कस्तूरबा गांधी स्कूल में छात्राओं का टोटा