अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजद का आरोप: नीतीश कुशवाहा को लाए हाशिये पर

राजद के राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता श्याम रजक एवं प्रांतीय महासचिव निहोरा प्रसाद यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी अब समझ रहे हैं कि लोकसभा चुनाव में एनडीए का बुरा हाल होने वाला है। साढ़े तीन वर्षो के उनके झूठे वादे और छल का बदला लेने के लिए प्रदेश की जनता तैयार है। उन्होंने कहा कि लव-कुश का नारा देकर मुख्यमंत्री ने सत्ता हासिल की, लेकिन जिस कुश (कुशवाहा समाज) ने पूरी ताकत लगाकर उनकी सरकार बनवायी उसे हाशिये पर खड़ा कर दिया।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि जदयू सिर्फ अति पिछड़ों की बात करता है लेकिन व्यावहारिक रूप में यह उपेक्षित और अपमानित हुआ है। संख्या बल में बहुलता वाले कुशवाहा समाज का उपयोग कर मुख्यमंत्री के पद तक पहुंचने के बाद नीतीश कुमार ने इस समाज को प्रतिष्ठा देने में लगातार कोताही बरती। उपेन्द्र कुशवाहा को जदयू से निकाला गया। बुधवार को नागमणि जैसे कुशवाहा नेता के समर्थकों के साथ जदयू कार्यालय में हुआ बर्ताव इस बात को साबित करता है कि उनकी नजर में कुशवाहा समाज का कोई महत्व नहीं है। सीएम ने मंत्रिमंडल से प्रशासनिक स्तर तक इस समाज को उपेक्षित रखा है। जदयू की स्थिति यह है कि उसे लोकसभा चुनाव के लिए प्रत्याशी आयात करने पड़ रहे हैं। जदयू बिखरने की स्थिति में है। कैप्टन जयनारायण प्रसाद जिन्हें राजद से जदयू में जाने की बात कही जा रही है, वे राजद से नहीं बल्कि भाजपा से जदयू में गए हैं। 70 हजार ‘टुच्चों’ पर शिकंजाड्ढr पटना(हि.ब्यू.)। लोकसभा चुनाव में गड़बड़ी फैलाने की मंशा रखने वाले ‘टुच्चों’ की बिहार मेंबड़ी फौज है। इनका काम ही है, कुछ नेताओं और उम्मीदवारों के इशारों पर अशांति फैलाना, वोटरों को धमकाना। ऐसी हरकत करना जिससे वोटरों के मन में यह भय फैल जाए कि घर से बाहर निकलना ठीक नहीं। इस बार भी ऐसे तत्वों की मौजूदगी हजारों में है। लेकिन अब आदर्श आचार संहिता लागू है और ऐसे में इन्हें खुली छूट देना चुनाव आयोग की नजर में पुलिस की इमेज बिगाड़ सकती है। लिहाजा पुलिस ने ऐसे तत्वों के खिलाफ जबरदस्त अभियान छेड़ दिया है।ड्ढr ड्ढr चुनाव की घोषणा के बाद से अब तक करीब 70 हजार लोगों के खिलाफ धारा 107 के तहत कार्रवाई की गयी है। मूलत: शांति भंग करने की आशंका के मद्देनजर एहतियात के तौर पर पुलिस ने यह अभियान शुरू किया है। दूसरी ओर करीब 1हजार वारंटों का तामीला भी कराया गया है। हालांकि चुनाव में हिंसा फैलाने वाले लोग भी पुलिस के लिए चुनौती हैं। इनकी धर-पकड़ के लिए चलाए गए अभियान में अभी तक 125 से अधिक अवैध हथियार और 713 गोलियां बरामद की गयी हैं।ड्ढr चुनाव में अवैध हथियार बनाने के कारखानों पर भी पुलिस की निगाह है। अभी तक कुल 26 मिनी गन फैक्िट्रयों का उद्भेदन किया जा चुका है। पुलिस मुख्यालय के अनुसार सबसे अधिक 18 मिनी गन फैक्िट्रयां मुंगेर जिले में पकड़ी गयी हैं। मुंगेर लोकसभा सीट के लिए तीसर चरण में वोटिंग होगी। इसके अतिरिक्त बेतिया, बांका और लखीसराय में दो-दो मिनी गन फैक्िट्रयां पकड़ी गयी हैं। नालंदा और मोतिहारी में पुलिस ने एक-एक मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन किया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजद का आरोप: नीतीश कुशवाहा को लाए हाशिये पर