DA Image
14 जुलाई, 2020|9:43|IST

अगली स्टोरी

खराब गेंदबाजी ने हराया: धोनी

खराब गेंदबाजी ने हराया: धोनी

टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने चैंपियंस ट्रॉफी के अपने पहले मैच में शनिवार को चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के हाथों 54 रन की करारी शिकस्त के लिए टीम की खराब गेंदबाजी को जिम्मेदार ठहराया है। धोनी ने कहा कि मुझे लग रहा था कि हम एक नहीं बल्कि तीन गेंदबाजों की कमी से जूझ रहे हैं। ऐसी गेंदबाजी हो रही थी कि उनके लिए क्षेत्ररक्षण सजाना बहुत मुश्किल लग रहा था।

इस मैच में ईशांत शर्मा को छोड़कर सभी प्रमुख गेंदबाज खासे महंगे साबित हुए। सुपरस्पोर्ट्स स्टेडियम के धीमे विकेट पर धोनी के ट्रंप कार्ड माने जा रहे ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने अपने 10 ओवर में 71 रन दे डाले, जबकि आरपी सिंह और आशीष नेहरा ने भी अपने कोटे के ओवरों में 50 से ज्यादा रन दिए। पाकिस्तान की पारी में चौथे विकेट के लिए शोएब मलिक और मोहम्मद यूसुफ ने अपनी 206 रनों की साझेदारी के दौरान भारतीय गेंदबाजों की जमकर धुनाई की।

धोनी ने कहा किसी भी तरह की फील्ड सेटिंग काम नहीं आई। आप फील्डिंग सजा सकते हैं लेकिन किसी के लिए गेंदबाजी नहीं कर सकते। हमने बहुत शॉर्ट पिच बॉलिंग की और बैकवर्ड प्वाइंट क्षेत्र में बहुत रन दे दिए। हमारे गेंदबाजों ने प्रैक्टिस मैच में उछाल भरे विकेट पर गेंदबाजी की थी, लेकिन अचानक उन्हें ऐसे विकेट पर गेंदबाजी करनी पड़ी जहां गेंद को थोड़ा ऊपर रखने की जरूरत थी।

भारतीय कप्तान ने कहा कि पाकिस्तान एक समय 65 रन पर तीन विकेट गंवा चुका था, लेकिन खराब गेंदबाजी की वजह से वे 13 से 42 ओवरों के बीच अपना काम कर गए। हमने काफी रन दिए। प्रतिद्वंद्वी बल्लेबाजों के शॉटस ऐसी जगह जा रहे थे जहां कोई फील्डर नहीं था। मैंनें दोनों छोर से पार्ट टाइम गेंदबाजों को लगाया, क्योंकि मैंने यह महसूस किया है कि जब आप हरभजन के साथ किसी पार्ट टाइम बॉलर को लगाते हैं तो बल्लेबाज उस पर दबाव बना लेते हैं।

सचिन तेंदुलकर से गेंदबाजी नहीं कराए जाने के बारे में धोनी ने कहा तेंदुलकर के कंधे में चोट लगी थी और वह लगातार गेंदबाजी नहीं कर सकते थे। वह हमारे मुख्य बल्लेबाज हैं और हम नहीं चाहते कि उन्हें चोट लगे। धोनी ने नए बल्लेबाज विराट कोहली को खुद से पहले बल्लेबाजी के लिए भेजे जाने के फैसले पर सफाई देते हुए कहा कि वह युवा बल्लेबाज हैं और आप नहीं चाहेंगे कि उन पर लक्ष्य का पीछा करने का ज्यादा दबाव पड़े। जब वह बल्लेबाजी के लिए आए थे तो हमारी रनरेट अच्छी थी और ऐसे में उनके पास खुद को स्थापित करने का वक्त था।

धोनी ने शानदार पारी खेल रहे गौतम गंभीर (57) और राहुल द्रविड़ (76) के नाजुक मौके पर रन आउट होने को भी अपनी टीम के लिए बेहद नुकसानदेह बताया।

कप्तान ने युवराज सिंह के चोटिल होने से उनके रूप में एक गेंदबाज के भी खोने पर अफसोस जताया। उन्होंने कहा कि युवराज छह-सात ओवर की उपयोगी गेंदबाजी करते हैं और आज हमारे पास वह विकल्प नहीं था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:खराब गेंदबाजी ने हराया: धोनी