DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुद्रास्फीति 0.37 प्रतिशत पर, खाने की चीजें हुईं मंहगी

मुद्रास्फीति 0.37 प्रतिशत पर, खाने की चीजें हुईं मंहगी

सालाना आधार पर आवश्यक वस्तुओं की कीमत में भारी बढ़ोतरी हुई है। इसके कारण 12 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान मुद्रास्फीति बढ़कर 0.37 प्रतिशत हो गई जो इसके पिछले सप्ताह 0.12 फीसद थी।

पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 12.42 प्रतिशत पर थी। पांच सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान मुद्रास्फीति 13 हफ्ते बाद पहली बार नकारात्मक दायरे से बाहर निकली। समीक्षाधीन अवधि में सालाना स्तर पर खाद्य वस्तुओं की कीमत 15.64 प्रतिशत बढ़ी जो मुख्य तौर पर सब्जियों की कीमत में 44.85 प्रतिशत की बढ़ोतरी के कारण हुआ।

सब्जियों में आलू 75 प्रतिशत मंहगा हुआ जबकि दाल 21 प्रतिशत और चावल की कीमत 17 प्रतिशत बढ़ी। प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों में बढ़ोतरी का रुख जारी रहा। सालाना स्तर पर उनकी कीमत 12.68 प्रतिशत बढ़ी जबकि चीनी 43.35 प्रतिशत मंहगी हुई।

साप्ताहिक परिप्रेक्ष्य में आवश्यक वस्तुओं की कीमत में मछली को छोड़कर कोई खास बदलाव नहीं हुआ। इसमें 11 प्रतिशत का इजाफा हुआ। अन्य खाद्य पदार्थों की कीमत एक से दो प्रतिशत गिरी। हालांकि विश्लेषकों ने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी से आरबीआई को ब्याज दरों में कटौती का संकेत नहीं लेना चाहिए क्योंकि इससे मुद्रास्फीति पर तो लगाम नहीं लगेगी लेकिन वृद्धि दर में कमी जरूर जो जाएगी।

सितंबर 12 तक 52 हफ्तों की औसत मुद्रास्फीति 3.22 प्रतिशत रही। जबकि प्राथमिक उत्पादों का औसत 8.37 प्रतिशत रहा, इंधन की औसत मुद्रास्फीति 3.09 (नकारात्मक) प्रतिशत रही और विनिर्माण उत्पादों की औसत मुद्रास्फीति 3.58 प्रतिशत रही।

थोक मूल्य आधारित मुद्रास्फीति में प्राथमिक खाद्य पदार्थों का योगदान 22 प्रतिशत का होता है लेकिन उपभोक्ता मूल्य आधारित मुद्रास्फीति में इनका योगदान 50 से 60 प्रतिशत के बीच होता है इसलिए विभिन्न सूचकांकों के आधार पर यह अब भी दोहरे अंकों में है।

थोकमूल्य सूचकांक में खाद्य तेल, फाइबर, खनिज, ईंधन, गैस, पेट्रोल, मानव निर्मित कपड़े, चमड़ा और चर्म उत्पाद, लोहा एवं इस्पात, मशीन के उपकरण और परिवहन उपकरण जैसे कई उत्पाद है जिनकी कीमत सालाना स्तर पर इस सप्ताह के दौरान घटी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुद्रास्फीति 0.37 प्रतिशत पर, खाने की चीजें हुईं मंहगी