अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निगरानी-आइटी और सक्रिय

आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोपी राज्य के पूर्व मंत्री एनोस एक्का और हरिनारायण राय के विरुद्ध निगरानी थाना में दर्ज मामले की समीक्षा की गयी। डीजी नेयाज अहमद ने मामले की समीक्षा की, जिसमें आइजी एमवी राव, डीआइजी विनय कुमार पांडे, एसपी और अनुसंधानक भोलानाथ सरकार भी शामिल थे। बैठक में तय हुआ कि निगरानी ब्यूरो ने आरोपियों की संपत्ति के मामले में जितने कागजात हासिल किये हैं, उसी के आधार पर चार्जशीट कर दिया जाये। इस बाबत अनुसंधानक को निर्देश भी दिया गया। डायरी लिखने का काम अंतिम चरण में है।ड्ढr अनुसंधानक ने इसकी जानकारी डीजी को दी। साथ ही दवा घोटाला के अनुसंधानक डीएसपी श्रीकांत कश्यप और जल संसाधन के घपलों की जांच कर रहे डीएसपी आनंद कुजूर को भी निर्देश दिया गया कि वे तुरंत जांच कार्य को पूरा करं। बैठक के बाद आइजी एमवी राव ने बताया कि जांच कार्य तेजी से पूरा करने का निर्णय लिया गया है।ड्ढr स्टाम्प वेंडरों से पूछताछ : निगरानी ब्यूरो में सोमवार को उन लोगों से पूछताछ हुई, जो स्टाम्प बेचते हैं। छह स्टाम्प वेंडरों ने निगरानी कार्यालय में पहुंच कर अपना बयान दर्ज कराया। इन लोगों से पूछा गया कि स्टाम्प खरीदने कौन आता था। पैसा कौन भुगतान करता था और किसके नाम पर खरीद होती थी। इनसे पूछताछ आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोप में दर्ज एफआइआर कांड संख्या 2608 के तहत दर्ज मामले में की गयी। यह मामला एनोस एक्का और राय के विरूद्ध दर्ज है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: निगरानी-आइटी और सक्रिय