इनमें भी है मैच का रुख बदलने का माद्दा - इनमें भी है मैच का रुख बदलने का माद्दा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनमें भी है मैच का रुख बदलने का माद्दा

किसी भी टूर्नामेंट में कुछ ऐसे खिलाड़ी होते है जोकि दिन विशेष में अपनी टीम को जीत दिलवाने में सक्षम होते है। ये खिलाड़ी न तो ज्यादा अनुभवी होते हैं और न ही बहुत बड़े स्टार होते हैं लेकिन यह बड़ी भूमिका निभाने का माद्दा रखते हैं। हमने ऐसे ही कुछ छुपे रुस्तमों को छांटा है।

आस्ट्रेलिया:

जेम्स होप्स
मध्यम गति के गेंदबाज जेम्स होप्स मैच का रुख बदलने की पूरी क्षमता रखते हैं। निचले क्रम में तेज बल्लेबाजी उनको और भी खतरनाक बना देती है। अगर होप्स अपना सौ फीसदी मैदान पर दें तो वह टीम की जीत पक्की कर देते हैं। वह आस्ट्रेलिया की बड़ी उम्मीद बनने का माद्दा रखते हैं।

शेन वाटसन
पहले आईपील टूर्नामेंट में राजस्थान रॉयल्स को चैंपियन बनवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले वाटसन टीम के मैच विजेता खिलाड़ी हैं। वह बल्ले से तूफान पैदा कर सकते हैं तो उनकी गेंदें भी आग उगलती हैं। जिस दिन वाटसन का दिन होता उस दिन वह प्रतिद्वंद्वी टीम की नाक में दम कर देते हैं। वाटसन दमदार खेल दिखाकर अपनी टीम को चैंपियन बनाने के लिए बेताव होंगे।

 
इंग्लैंडः

रवि बोपारा
भारतीय मूल के रवि बोपारा हर परिस्थिति के अनुसार खलने में सक्षम हैं और इसी कारण वह घातक खिलाड़ी बन जाते हैं। अपनी टीम को कई जीतों से नवाजने वाले बोपारा चैंपियंस ट्राफी में खतरनाक साबित होंगे। उनके चलने से इंग्लैंड की संभावनाओं को बल मिलेगा। बोपारा भी यहां अपने बल्ले का जादू बिखेरने के लिए बेकरार होंगे।

मैट प्रायर
विकेट के पीछे पूरी तरह मुस्दैद दिखने वाले मैट प्रायर विकेट के आगे कहर बरपाने में माहिर हैं। अगर वह थोड़ी देर विकेट पर टिक गए तो अपनी टीम को काफी आगे पहुंचा देते हैं। प्रायर को सही तरीके से उपयोग किया जाए तो वह इंग्लैंड को काफी आगे ले जाने का माद्दा रखते हैं।

भारतः

यूसुफ पठान
विकेट पर आते ही लंबे-लंबे छक्के जमाने वाले बल्लेबाज के बारे में सोचें तो आपके जेहन में यूसुफ पठान का नाम संभवतः सबसे पहले आएगा। मैच को टीम इंडिया के हक में मोड़ने का हुनर रखने वाले यूसुफ अपनी गेंद से भारत को कम बैक कराने में माहिर हैं। उनके ताकतवर शॉटस को देखते हुए कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा था कि उनके पास लंबे शॉट मारने का लाइसेंस है। चैंपियंस ट्राफी में भी दर्शकों को उनके लंबे-लंबे छक्कों के दर्शन होंगे।

अभिषेक नायर
इंडियन प्रीमियर लीग से सुर्खियां बटोरने वाले अभिषेक नायर को भविष्य का स्टार माना जाता है। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने अपने खेल से सभी को प्रभावित करते हुए टीम में जगह बनाने का सफर तय किया। वह निचले क्रम पर भारत के मैच विनर खिलाड़ी बनने का पूरा हुनर रखते हैं। चैंपियंस ट्राफी में मिले मौके को भुनाने के लिए वह बेताव होंगे और यह खिलाड़ी चला तो भारत के लिए एक्स्ट्रा एडवांटेज होगा।

प्रवीण कुमार
यूपी के इस क्रिकेटर को काफी प्रतिभावान खिलाड़ी कहा जाता है। उन्होंने टीम इंडिया के लिए बेहतरीन गेंदबाजी करके उसे शुरुआती सफलताओं से नवाजा है। वह गेंद से तो कमाल करते है लेकिन वह बल्ले से भी विपक्षियों पर भारी पड़ने में सक्षम है। हालांकि दर्शकों को उनके बल्ले से तूफान देखने का इंतजार है। जहीर खान के टीम में नहीं होने से उनकी जिम्मेदारी बढ़ गई है और वह अच्छी तरह जानते है कि इस चुनौती से कैसे निपटना है।


न्यूजीलैंडः

जेसी राइडर
अपने शरीर से पहलवान ज्यादा नजर आने वाले राइडर को विपक्षी गेंदबाजों की धुनाई करने में बहुत मजा आता है। वह ओपनिंग पर आकर किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को नेस्तानाबूद करने में सक्षम हैं। जिस दिन राइडर अपने रंग में हो उस दिन न्यूजीलैंड को हराना काफी मुश्किल है। वह आलराउंडर की भूमिका में बिल्कुल फिट बैठते हैं। चैंपियंस ट्राफी में अगर दर्शक दीर्घा से राइडर-राइडर की आवाज आए तो कोई हैरानी की बात नहीं।
 

रॉस टेलर
दुनिया के ताकतवर हिटर में शुमार होने वाले रॉस टेलर जैसे खिलाड़ी को हर कप्तान अपनी टीम में लेना चाहेगा। कुछ ही समय में वह मैच का रुख अपनी ओर मोड़ने में सक्षम है और न्यूजीलैंड
को अगर टूर्नामेंट जीतना है तो टेलर को अपना जौहर दिखाना होगा। ऊपरी क्रम में काफी कुछ टेलर पर निर्भर करेगा। टेलर भी दिखाना चाहेंगे उनकी टीम में कितना दम है।


पाकिस्तानः

कामरान अकमल
विकेट के पीछे से अपने साथी खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाने वाले कामरान ने अपने आप को बेहतरीन हिटर में शुमार किया है। वह विकेट के पीछे पूरी तरह मुस्तैद नजर आते है और विकेट के आगे रनों का ढे़र लगाने में उनको महारत हासिल है। वनडे कैरियर में उनके नाम पर पांच शतक दर्ज है और वह अपनी टीम को मंजिल तक पहुंचाने में सक्षम हैं। यह बल्लेबाज चला तो समझो पाकिस्तान की बल्ले-बल्ले हो जाएगी।

इमरान नजीर
बागी इंडियन क्रिकेट लीग से पाकिस्तान की टीम में वापसी करने वाले ओपनर इमरान नजीर काफी प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। वह अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। बागी लीग से राष्ट्रीय टीम में वापसी करने के कारण वह अपने आप को साबित करने को बेताब होंगे। अगर वह अपने इरादों में कामयाब हुए तो समझो विपक्षी आक्रमण की खैर नहीं।

 

श्रीलंकाः

अजंथा मेंडिस
अपनी कैरम गेंद से बल्लेबाजों पर राज करने वाले अजंथा मेंडिस श्रीलंका के आक्रमण को तीखा कर देते हैं। दाएं हाथ के इस गेंदबाज से सभी बल्लेबाज भय खाते हैं। उन्होंने श्रीलंका को कई शानदार जीतों से नवाजा है। वह श्रीलंका के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं। अगर मेंडिस का मैजिक चल गया तो श्रीलंका को सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

थिलिना कादम्बी
कुछ ही समय में थिलिना कादम्बी श्रीलंका के लिए मैच विनर खिलाड़ी बन गए हैं। मध्यक्रम में वह अपनी टीम को जीत तक ले जाने में सक्षम हैं। जब तक कादम्बी विकेट पर रहते है तब तक विपक्षी गेंदबाजों का जीना दूभर कर देते हैं। उनको अच्छी तरह पता है कि विपक्षी से जीत कैसे छीनी जाती है। चैंपियंस ट्राफी में वह जादूई कारनामा करते दिखे तो कोई अचरज नहीं होना चाहिए। वह जरूरत के हिसाब से बल्लेबाजी करने में सक्षम हैं जोकि उनका सबसे बड़ा प्लस प्वाइंट है।

 

दक्षिण अफ्रीकाः

एल्बी मोर्केल
लंबे छक्के मारना हो या गेंद से आग उगलना हो। इन सबमें एल्बी मोर्कल का कोई सानी नहीं। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने निचले क्रम में मैच विनर की भूमिका का बेहतरीन तरीके से निर्वाह किया है। उनको धुआंधार बल्लेबाजी करने में महारत हासिल है। अपनी इसी काबिलियत के कारण उनको गेंदबाजी करने में हर गेंदबाज बचता है। दक्षिण अफ्रीका की रणनीति में एल्बी मोर्केल की बड़ी भूमिका होगी। अगर मोर्केल का बल्ला चला तो गेंद दर्शकों के पास ही मिलेगी।

रोलोफ वान डेर मर्व
इंडियन प्रीमियर लीग में सुपर हिट शो दिखाने वाले रोलोफ वान डेर मर्व बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों से ही जौहर दिखाने में माहिर हैं। वह निचले क्रम में ताकतवर शॉट खेल सकते हैं और अपनी स्पिन से टीम को ब्रेक थ्रू दिलाते हैं। उन्होंने अभी बहुत कम वनडे खेले हैं इसलिए वह अपनी पूरी ताकत चैंपियंस ट्राफी में लगाकर विपक्षियों की नाक में दम करना चाहेंगे। अपनी धरती पर हो रहे इस टूर्नामेंट में मर्व काफी खतरनाक नजर आएंगे।

वेस्टइंडीजः

डेवोन स्मिथ
बाएं हाथ के बल्लेबाज डेवोन स्मिथ तेज खेलने में सक्षम हैं। दोयम दर्जे की टीम होने के कारण उनकी जिम्मेदारी काफी बढ़ गई है। वेस्टइंडीज की उम्मीदें काफी कुछ स्मिथ पर निर्भर करेगी। वैसे, स्मिथ इस टूर्नामेंट में कोई धमाल कर दें तो अचरज नहीं होना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इनमें भी है मैच का रुख बदलने का माद्दा